page level


Wednesday, October 17th, 2018 08:15 PM
Flash

’तोमर दादियों’ के आगे फेल हैं सारे शूटर




Social

82 साल की चंद्रो तोमर के लिए उनकी उम्र सिर्फ़ एक नंबर है। रिवॉल्वर दादी के नाम से फेमस चंद्रो शूटिंग में 25 नेशनल चैंपियनशिप जीत चुकी हैं और दुनिया की सबसे बुज़ुर्ग शूटर हैं। उनकी सिस्टर इन लॉ प्रकाशी भी काफ़ी अच्छी शूटर हैं और उन्हें विकास मंत्रायल द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है। दोनों को ही ’तोमर दादियों’ के नाम से भी जाना जाता है।

chandro-tomar-prakashi-tomar

दोनों को शूटिंग का शौक तब चढ़ा जब भारतीय खेल प्राधिकरण ने उनके गांव में शूटिंग रेंज खोली। उस वक्त प्रकाशी की उम्र 60 साल और चंद्रो की उम्र 65 साल थी। चंद्रो ने जब अपनी पोती को जोहरी राइफल क्लब ज्वॉइन करवाया था तब उन्होंने पहली बार राइफल को हाथ में लिया था। राइफल हाथ में लेते ही उन्होंने एक बार में ही टारगेट को शूट करके सबको हैरान कर दिया था। एक पल के लिए तो वे खुद भी हैरान हो गईं थीं लेकिन बाद में उन्हें एहसास हुआ कि उनकी उम्र में भी कोई यदि शूटिंग करता है तो इसमें कोई बुराई नहीं है। उनका मानना है कि कोई भी कुछ भी कर सकता है बस ज़रूरत होती है उसमें ध्यान लगाने की।

वहीं जब प्रकाशी ने शूटिंग शुरु की थी तब गांव में उनका मज़ाक उड़ाया जाता था और कहा जाता था कि ’’बुढ़िया इस उम्र में कारगिल जाएगी।’’ यहां तक कि उनके पति भी उनका मज़ाक उड़ाते थे। लेकिन उन्होंने लोगों की बातों पर ध्यान न देते हुए शूटिंग अभ्यास को जारी रखा।

prakashi-tomar

प्रकाशी और चंद्रो अपने घर में अकेली ही शूटर नहीं हैं। इनकी बेटी से लेकर पोती तक नेशनल और इंटरनेशनल लेवल की शूटर हैं। चंद्रो की बेटी सीमा राइफल और पिस्टल वर्ल्ड कप जीतने वाली पहली इंडियन वुमन है। वहीं उनकी पोती नीतू सोलंकी हंगरी और जर्मनी में हुए इंटरनेशनल लेवल शूटिंग कॉम्पटीशन में हिस्सा ले चुकी हैं।

shooting-training

गृहस्थी के साथ खेतीबाड़ी संभालने वाली प्रकाशी और चंद्रो की अपनी शूटिंग रेंज भी है जहां वे गांव की लड़कियों को शूटिंग की ट्रेनिंग देती हैं। लगभग 25 लड़कियां यहां शूटिंग की ट्रेनिंग लेती हैं।

तोमर दादियों ने इस उम्र में जो कर दिखाया है वह किसी के लिए सपना ही है। अगर हम कुछ सीखना चाहते हैं, कुछ करना चाहते हैं तो हमारा मन और उस काम को करने की इच्छा मजबूत होनी चाहिए। इसके अलावा तोमर दादियों की कहानी हमें ये सिखाती है कि ’सीखने’ की कोई उम्र नहीं होती।

Image Source : Hindustan Times

Sponsored






You may also like

No Related