Monday, August 21st, 2017
Flash

ये है इंडिया की पहली ब्लाइंड डॉक्टर, लड़कर जीती अपने हक की लड़ाई




Education & Career

blind3

ये बात कहने में तो बड़ी आसान है कि कोई भी कार्य असंभव नही है। मगर हम में से एसे कितने लोग होंगे जो असंभव कार्य को करने कि सोचेंगे। ज़ाहिर सी बात है कोई नही मगर हम कहते हैं ये संभव है जी हा! इसी कहावत को सच करने वाली कृतिका पुरोहित ;मुम्बई जो जन्म से नेत्रहीन है। कृतिका ने असंभव को संभव करने की ठान लीए फिर क्या था…

नेशनल एसोसिएशन फ़ोर द ब्लाइड़ से मेडिकल कि पढ़ाई कर आज़ खुद डॅाक्टऱ बन अपने जैसे कई लोगों के लिए प्रेरणा बन गई है। कृतिका का कहना है जब वे 17 साल कि थी तब उन्हें सीईटी देने में बडी दिक्कतों का सामना करना पड़ा क्योंकिए इस एग्ज़ाम में विजुअल टेस्ट अनीवार्य था जो वाकई कृतिका के लिए बडा चैलेन्जिग था उस टेस्ट को क्लियर करना। शिक्षा के अधिकार के तहत कोर्ट ने कृतिका कि पढ़ाई में रूकावटें आने नहीं दी।

सिर्फ़ वही रूकावट नहीं थी वो तो शुरूवात थी उसके बाद सरकारी कॉलेज में एडमिशन लेने के बाद भी प्रेक्टिकल सिखाने से इनकार कर दिया था फिर एक बार कृतिका को कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया। फिर सफल हो कर दिखाने वाली कृतिका आज डॉक्टर बन उसके खिलाफ़ बोलने वालो का मुह तो बंद किया है साथ ही अपनी तरह नेत्रहिनों के लिए उदाहरण भी दिया।

उनका कहना है बिना अपने मार्गदर्शकों और मेहनत के बिना कुछ नही कर पाती। उन्होने ये भी बताया कि र्कोस के दौरान प्रशिक्षण और मार्गदर्शन से उन्हें काफी सहायता मिली जिससे वे शारिरीक रचना और विज्ञान में अव्वल रही जिसके लिए महाराष्ट्र सरकार ने ऑक्यूपेशनल थैरपी और फिजियोथैरेपी के लिए कृतिका को प्रथम नेत्रहिन डाक्टर के रूप में प्रमाणित किया।

Sponsored



Follow Us

Youthens Poll

‘‘आज़ादी के 70 साल’’ इस देश का असली मालिक कौन?

Young Blogger

Dont miss

Loading…

Related Article

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Subscribe

Categories