Monday, August 21st, 2017
Flash

इन चार भारतीय को अमेरिका देगा सर्वोच्च पुरस्कार, ओबामा ने चुने नाम




Social

obama

साइंस और टेक्नोलॉजी आज हमारी ज़िन्दगी में इस कदर रच बस गए है कि इनके बिना कोई भी काम करना नामुमकिन सा लगता है। किसी भी देश के विकास में वहां की टेक्नोलॉजी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। देश के प्रतिनिधी इस बात को भलीभांति जानते है कि टेक्नोलॉजी और साइंस के बिना देश का विकास संभव नहीं है।

अमेरिका में भी इन क्षेत्रों में विकास करने वालों को सर्वोच्च पुरस्कार दिया जाता है। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने विज्ञान और इंजीनियरिंग क्षेत्र के पेशवरों को दिए जाने वाले सर्वोच्च पुरस्कार में चार भारतीयों-अमेरिकियों को चुना है। यह सम्मान पेशेवरों को उनके शोध करियर के शुरूआती चरणों में दिया जाता है, जो नवाचार के जरिए अमेरिका को एक कदम आगे रखने में मदद देते हैं।

भारतीय अपना परचम पूरे विश्व में लहरा रहे है। इन चार भारतीय अमेरिकियों का नाम 102 वैज्ञानिक और अनुसंधानकर्ताओं की लिस्ट में शामिल है, जिन्हें प्रेसिडेंशियल अर्ली करियर अवार्ड्स फॉर साइंटिस्ट एंड इंजीनियर्स सम्मान दिया जाएगा। ये विज्ञान और इंजीनियरिंग पेशेवरों को उनके स्वतंत्र रिसवर्च करियर के शुरूआती चरण में दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान है।

pankaj-lal

इस लिस्ट में सबसे पहला नाम पंकज लाल का है। पंकज लाल मॉन्टक्लेयर स्टेट यूनिवर्सिटी में अर्थ एंड इनवायरमेंटल स्टडीज़ के एसोसिएट प्रोफेसर है। इन्होंने अपना ग्रेजुएशन दिल्ली यूनिवर्सिटी से किया है। इसके बाद दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स से इन्होंने एम.ए. किया। आईआईएफएम से एमबीए और यूनिवर्सिटी ऑफ फ्लोरिडा से पीएचडी।

koushik

इस लिस्ट में दूसरा नाम है कौशिक चौधरी का। कौशिक चौधरी नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी में इलेक्ट्रिकल एंड कंप्यूटर इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के असोसिएट प्रोफेसर हैं और कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के फैक्ल्टी भी है। इसी यूनिवर्सिटी में वे पहले असिस्टेंट प्रोफेसर भी रह चुके है। इन्होंने जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से पीएचडी किया है। कौशिक चौधरी ने 2015 में एनएसएफ करियर अवार्ड भी जीता था।

manish-arora

इस लिस्ट में तीसरे व्यक्ति है मनीष अरोड़ा। मनीष अरोड़ा माउंट सिनाई के इकान स्कूल ऑफ मेडिसीन में एसोसिएट प्रोफेसर है। इनके अंर्तगत इनवायरमेंटल मेडिसीन एंड पब्लिक हैल्थ डिपार्टमेंट है। मनीष अरोड़ा को साल 2015 में इंटरनेशनल कॉलेज ऑफ डेंटिस्ट द्वारा फैलोशिप दी गई थी। 2015 में उन्होंने न्यू इनोवेटर अवार्ड जीता था।

इस लिस्ट में चौथी है आराधना त्रिपाठी। अराधना त्रिपाठी केलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर है। रिसर्च गेट के मुताबिक उनके नाम पर 135 से भी ज़्यादा रिसर्च मौजूद है।

Sponsored



Follow Us

Youthens Poll

‘‘आज़ादी के 70 साल’’ इस देश का असली मालिक कौन?

Young Blogger

Dont miss

Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Subscribe

Categories