page level


Sunday, September 23rd, 2018 03:54 PM
Flash

लंबे समय तक मिलेगी परमानेंट इनकम, इन 5 जगहों पर करें इनवेस्ट




लंबे समय तक मिलेगी परमानेंट इनकम, इन 5 जगहों पर करें इनवेस्टBusiness



आमतौर पर निवेशक एक लंबी अवधि तक निवेश करने के बाद में एक मुश्त राशि पाने और टैक्स की बचत के लिए निवेश करते है। लेकिन कुछ इंवेस्टमेंट ऐसे भी होते है जिनसे आपको नियमित आय भी होती रहती है। अगर आप भी कुछ ऐसे ही इंवेस्टमेंट की तलाश कर रहे है तो आपको ऐसे 5 विकल्प बताने जा रहे है जिससे आप अपनी आय के एक सोर्स को जनरेट कर सकते है।

1. पोस्ट ऑफिस एमआईएस

निवेश के साथ-साथ नियमित आय देने के मामले में पोस्ट ऑफिस एमआईएस काफी बेहतर विकल्प माना जाता है। इसमें निवेश कर आप मंथली इनकम प्राप्त कर सकते है। इसमें किए गए निवेश पर 7.3 फीसद की दर से सालाना ब्याज मिलता है। इसमें अधिकतम 4.5 लाख का निवेश किया जा सकता है जो कि ज्वाइंट अकाउंट में 9 लाख तक हो सकता है। इसमें किया जाने वाला निवेश 5 साल तक के लिए ही होता है। अगर आप एमआईएस में 3 लाख रुपए का निवेश करते हैं जो आपको इस पर मासिक रिटर्न 2000 रुपए का मिलेगा और छह महीने बीत जाने पर खाताधारक को 15,000 रुपए का अतिरिक्त बोनस भी मिलेगा।

2. फिक्स्ड डिपॉजिट

फिक्स्ड डिपॉजिट निवेश का ऐसा विकल्प है जहां पर आप निवेश का एक निश्चित समय होता है। इसमें मिलने वाला रिटर्न भी फिक्स्ड रेट पर होता है। यह उन चुनिंदा निवेश विकल्पों में से एक है। इसमें मासिक आधार पर, तिमाही या फिर सालाना आधार पर रिटर्न की सर्विस मिलती है। इस निवेश पर मिलने वाली ब्याज दर 6 से 7 फीसद तक होती है जो अलग अलग बैंक के आधार पर बदलती रहती है। उदाहरण से समझिए, अगर आपने 1 लाख रुपए का निवेश एक साल के लिए कर रखा है और मान लीजिए कोई बैंक आपको इस पर 9 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है तो आपको इससे 750 रुपए की मासिक आय होती रहेगी।

3. सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम

यह देश के वरिष्ठ वर्ग के लिए एक विशेष स्कीम है। इस स्कीम का लाभ 60 वर्ष से ज्यादा की उम्र वाले लोग इसका फायदा उठा सकते है। इस पर मिलने वाला ब्याज 7.6 फीसदी का होता है। लेकिन एक बात यह है कि वह ब्याज तिमाही आधार पर दिया जाता है। इस स्कीम की मैच्योरिटी 5 साल के लिए होती है जिसे 3 अन्य सालों के लिए भी बढ़ाया जा सकता है।

4. म्यूचुअल फंड

कुछ म्युचुअल फंड में नियमित आय की सुविधा दी जाती है जिसे मंथली इनकम प्लान (एसआईपी) भी कहा जाता है। एमआईएसएएफडी और सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम (सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम) की ही तरह गारंटी नहीं दी जाती है कि इसमें उतार चढ़ाव आएगा और वो 8 से 9 फीसद की रेंज में होगा। एमआईपी के एवज में जो पैसा दिया जाता है उसे डिलिडेंड भी कहा जाता है। ये डिविडेंड टैक्स फ्री होते हैं।

5. सरकारी बॉण्ड

लंबी अवधि के सरकारी बॉण्डरू नियमित आय प्राप्त करने के मामले में लॉन्ग टर्म कैपिटल बॉण्ड सबसे सुरक्षित निवेश विकल्प माने जाते हैं। इस तरह के सरकारी बॉण्ड पर आम तौर पर 8 फीसद का ब्याज दिया जाता है जो कि छमाही आधार पर होता है। ये लंबी अवधि के बॉण्ड होते हैं और आपको मैच्योरिटी खत्म होने के बाद मूल राशि वापस कर दी जाती है।

इमेज सोर्स – bccl

यह भी पढ़ें

पिछले 6 महीनों में कहाँ यूज हुआ आपका आधार, फ्री में ऐसे जानें

इंटरव्यू के ये 5 सवाल तय करते है आपकी जॉब पक्की है या नहीं

1 अप्रैल से लागू होगा ई -वे बिल, जानिए क्या होता है

भारत पह़ुंचे फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों, दोनों देशों के बीच हो सकते हैं कई अहम समझौते…

Sponsored