page level


Sunday, December 17th, 2017 12:43 PM
Flash




Blue whale गेम खेलते छात्र को बचाया, शिक्षक ने लगाई अपनी जान की बाजी




Blue whale गेम खेलते छात्र को बचाया, शिक्षक ने लगाई अपनी जान की बाजीEducation & Career

Sponsored




राजस्थान में शिक्षा विभाग के जागरुकता अभियान के कारण झुंझुनू जिले के बिसाऊ कस्बे में बहुचर्चित ब्लू व्हेल गेम खेल रहे नौंवी कक्षा के एक छात्र को इससे बचा लिया गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार कस्बे की राजकीय जटिया स्कूल में नौंवी कक्षा में पढ़ रहा यह छात्र ब्लू व्हेल गेम खेलते हुए तीसरी स्टेज तक पहुंच चुका और अब गेम में आगे नहीं खेला गया तो उसके पिता को मार दिये जाने की धमकी मिल रही थी।

शिक्षक ने कहा मेरा नंबर दे दो, तुम्हारे परिवार को कुछ नहीं होगा

स्कूल में कल विभाग की तरफ से चलाये जा रहे ब्लू व्हेल गेम जागरुकता अभियान के तहत प्रधानाचार्य कमलेश कुमार तेतरवाल ने इस गेम के बारे में विद्यार्थियों को लक्षण एवं दुष्परिणामों के बारे में बताते हुए बच्चों से कहा कि अगर कोई भी इस गेम को खेल रहा है तो उसको मरने से पहले बचने का तरीका वह जानते है। इसके बाद इस छात्र ने एक दूसरे छात्र को यह गेम खेलना एवं इसकी तीसरी स्टेज तक पहुंचना बताया।

इसके बाद स्कूल के एक अन्य अध्यापक ने इस बच्चे को समझाकर प्रधानाचार्य के पास लाया गया और पूछने पर उसने बताया कि वह इस गेम को खेलता है और आगे भी खेलना जारी रखेगा। नहीं तो उसके परिवार को खत्म कर दिया जायेगा। बच्चे ने बताया कि उनके पास उसके पापा के नम्बर है उनको नहीं छोड़ेगे। इस पर प्रधानाचार्य ने इस बालक को प्यार से समझाया, परिजनों से बात की एवं उसका मोबाइल भी घर से मंगवा लिया। फिर उसको बताया कि ‘लो अब पापा की जगह मेरे नम्बर दे दो, मैं मरने के लिए तैयार हूं। तुम्हारा कोई कुछ नहीं बिगाड़ेगा, परिवार को भी कुछ नहीं होगा।’

मनोचिकित्सक की मदद से अवसाद से निकाला

इसके बाद मामले की सूचना जिला कलेक्टर को दी गई। जिन्होंने मुख्यालय से एक मनोचिकित्सक को भेज कर विद्यार्थी को अवसाद से बाहर निकाला। छात्र से मिली जानकारी के अनुसार तीन और युवा इसमें फंसे है और काफी आगे के लेवल पर पहुंच गए है अब पुलिस, प्रशासन एवं कस्बे के लोगों के सहयोग से उनको खोजने का प्रयास कर रहे हैं।

Sponsored






Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें