page level


Thursday, May 24th, 2018 03:05 PM
Flash

8वीं के बच्चों को पढ़ाया जा रहा बाल गंगाधर तिलक ‘Father of Terrorism’




8वीं के बच्चों को पढ़ाया जा रहा बाल गंगाधर तिलक ‘Father of Terrorism’Education & Career



‘स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा’ का नारा देने वाले देश के स्वतंत्र सेनानी बाल गंगाधर तिलक के बारे में देश के बच्चों को गलत शिक्षा दी जा रही हैं। आरबीएसई से मान्यता प्राप्त एक स्कूल की कक्षा 8 वीं के बच्चों को सामाजिक विज्ञान की अंग्रेजी की किताब में इसका जिक्र ‘फादर ऑफ टेररिज्म’ से किया गया है। यह किस्सा राजस्थान का है। जहां पर बुक में बकायदा लिखा है ‘ही इज कॉल्ड एस ए टेररिज्म’।

पाक की राजनीति में पहली हिंदू महिला ने दी दस्तक , स्वतंत्रता सेनानी के परिवार से है खास नाता

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त

राजस्थान राज्य पाठयक्रम बोर्ड किताबों को हिंदी में प्रकाशित करता है। जबकि बोर्ड से मान्यता प्राप्त अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों के लिए मथुरा के एक प्रकाशक द्वारा प्रकाशित संदर्भ पुस्तक का इस्तेमाल किया जा रहा है। जिस स्कूल में यह किताबे पढ़ाई जा रही है वह राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त हैं।

मेधा पाटकर : लोगों के लिए अपनी जान दांव पर लगाने वाली सोशल वर्कर

जानिए कहा पर लिखा है यह

सामाजिक विज्ञान की अंग्रेजी की संदर्भ पुस्तक के 22वें चैप्टर में पेज नंबर 267 पर तिलक के बारे में लिखा गया है, ‘उन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन का रास्ता दिखाया था इसलिये उन्हें ‘आतंकवाद का जनक’ कहा जाता है। ‘18वीं और 19वीं सदी के राष्ट्रीय आंदोलन’ टॉपिक में इस बात का जिक्र किया गया है। इसमें कहा गया है कि तिलक का मानना था कि ब्रिटिश अधिकारियों की विनती करने से कुछ हासिल नहीं होने वाला है। शिवाजी और गणपति महोत्सव के जरिये तिलक ने देश में जागरूकता फैलाने का कार्य किया।

गूगल ने दिया इस भारतीय महिला को सम्मान, जिनकी 14 की उम्र में हो गई थी शादी

जानिए क्या कहा प्रकाशक ने

वहीं किताब के प्रकाशक ने सफाई देते हुए कहा है कि जो गलती हुई है, उसे अगले में सुधार दिया गया है। पीटीआई को दिये गये बयान में प्रकाशक के कार्यालय द्वारा बताया गया कि इस गलती के बारे में जानकारी मिलते ही इसे पिछले महीने के अंक सुधार दिया गया था। कार्यालय की तरफ से बताया गया कि ये गलती अनुवाद करने वालों से हुई।

अगर बीच में छोड़ी सेना की नौकरी, तो चुकानी पड़ेगी बहुत बड़ी रकम

Sponsored