page level


Wednesday, April 25th, 2018 10:04 PM
Flash

BJP बनी देश की सबसे अमीर पार्टी, कांग्रेस को हुआ इतना नुकसान




BJP बनी देश की सबसे अमीर पार्टी, कांग्रेस को हुआ इतना नुकसानPolitics



भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की आमदनी की खबर इन दिनों चर्चा में है। दरअसल, 2015-16 और 2016-17 की आमदनी के बीच तुलना की गई है। इसमें देखा गया है कि, इन दो से तीन सालों के दरमियाँ में भाजपा की आमदनी 81.18 फीसदी बढ़कर 1,034.27 करोड़ रूपये दर्ज हुई। वहीं कांग्रेस की आमदनी की बात करें तो 14 फीसदी घटकर 225.36 करोड़ रुपये दर्ज की गई।

‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2’ में इन दो एक्ट्रेस के साथ रोमांस करेंगे टाइगर

आपकी जानकारी के लिए बता दें, ये सभी आंकड़े मंगलवार को जारी हुए है। लोकतांत्रिक सुधार संघ (एडीआर) की एक रिपोर्ट के अनुसार सात राष्ट्रीय दल भाजपा, कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), मार्क्सकवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) और तृणमूल कांग्रेस की कुल घोषित आय 1,559.17 करोड़ रुपये रहीं जबकि इन पार्टियों ने 1,228.26 करोड़ रुपये खर्च किए थे। इस रिपोर्ट से चुनाव आयोग में दाखिल विवरणों पर आधारित भाजपा और कांग्रेस की कुल आय, उनके व्यय और आय के स्रोत की तुलना की गई है।

रिपोर्ट के अनुसार वित्त वर्ष 2015-16 से 2016-17 के बीच भाजपा की आय 570.86 करोड़ रुपये से 81.18 फीसदी (463.41 करोड़ रुपये) बढ़कर 1034.27 करोड़ रुपये हो गई और वहीं कांग्रेस की आय 261.56 करोड़ रुपये से 14 फीसदी (36.20 करोड़ रुपये) घटकर 225.36 करोड़ रुपये रह गई। भाजपा ने 2016-17 में 710.057 करोड़ रुपये का खर्च बताया और वहीं इस दौरान कांग्रेस ने 321.66 करोड़ रुपये खर्च किए थे।

20 हफ्ते की लड़की लग रही है प्रेग्नेंट, डॉक्टरों को हैरान कर गई इसकी सच्चाई

इसके साथ ही भाजपा ने 2016-17 के दौरान 997.12 करोड़ रुपये की आय का स्रोत अनुदान, चंदा या आर्थिक सहयोग बताया। यह राशि भाजपा की कुल आय का 96.41 फीसदी है और कांग्रेस की सर्वाधिक कमाई (115.644 करोड़ रुपये) उसके द्वारा जारी किए गए कूपनों से हुई है। यह उसकी कुल कमाई का 51.32 फीसदी है। इस दौरान इन दलों ने बैंकों से ब्याज के रूप में 128.60 करोड़ रुपये प्राप्त किए।

आपकी जानकारी के लिए बता दें, राजनीतिक दलों को अपनी आय-व्यय का विवरण दर्ज करने की अंतिम तिथि 30 अक्टूबर थी लेकिन भाजपा ने अपना लेखा-जोखा 8 फरवरी और कांग्रेस ने 19 मार्च को दर्ज कराया। इस पर एडीआर ने कहा है कि भाजपा, कांग्रेस, राकांपा, भाकपा पिछले पांच सालों से लगातार अपना लेखा-जोखा देर से जमा कर रही हैं।

यह भी पढ़े:-

स्थापना दिवस के मौके पर, सामने आया भाजपा का मास्टर प्लान

दीपिका के बाद भाजपा नेता ने ममता बनर्जी को नाक काटने की धमकी

अब भाजपा राहुल गांधी को पप्पू नहीं बल्कि पुकारेगी इस नाम से..

भाजपा सांसद रहे नेता की बेटी आख़िर खुले में क्यों जाती है ‘शौच’

Sponsored