page level


Saturday, September 22nd, 2018 10:15 AM
Flash

झारखंड में भूख से हुई मौतों पर केंद्रीय मंत्रालय का सख्त निर्देष




झारखंड में भूख से हुई मौतों पर केंद्रीय मंत्रालय का सख्त निर्देषSocial



संजय मेहता, रांची,  झारखंड में लगातार हुई भूख से मौतों पर खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय भारत सरकार ने कड़ा रूख अपनाया है। मंत्रालय ने इस मामले में राज्य सरकार को सख्त निर्देश देते हुए उचित कदम उठाने को कहा है। साथ ही दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आदेश दिया है। झारखंड के हजारीबाग जिले अंतर्गत बरही निवासी एवं विनोबा भावे विष्वविद्यालय में एल.एल.बी के छात्र संजय मेहता ने इस बाबत केंद्रीय मंत्रालय से 24 अक्टुबर 2017 को शिकायत की थी। श्री मेहता के पत्र पर संज्ञान लेते हुए खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय भारत सरकार ने विभाग के नेशनल फुड सिक्योरिटी एक्ट के अवर सचिव कौशिक चौधरी को अग्रसारित किया था। शिकायत पर गंभीरता से कार्रवाई करते हुए नेशनल फुड सिक्योरिटी एक्ट के अवर सचिव कौशिक चौधरी ने झारखंड सरकार के खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के विशेष सचिव को पत्र लिखकर उचित कदम उठाने का निर्देश दिया है।

क्या लिखा गया था शिकायत में

संजय मेहता ने पत्र में लिखा था कि झारखंड के सिमडेगा जिले में संतोषी कुमारी , धनबाद जिले के रिक्शा चालक बैद्यनाथ दास, गुमला जिले के सुकरा मुंडा, देवघर जिले के रूपलाल मरांडी की मौत सरकार की प्रशासनिक लापरवाही का परिणाम है। उन्होंने अपने शिकायत में दोषियों एवं लापरवाह पदाधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी।

क्या कहते हैं संजय मेहता

संजय मेहता ने कहा कि राज्य में भूख से हुई मौतों पर हम सबको चिंता करनी होगी। हमारे बीच के भाई – बहन भूख से तड़प – तड़प कर मर जायें और हमसब देखते रहें ऐसा नहीं हो सकता। जिम्मेवार लोगों को अपने कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी से करना चाहिए। उन्होंने कहा कि नेशनल फुड सिक्योरिटी एक्ट 2013 का सही से पालन नहीं हो पाना सरकार की लापरवाही को दर्शाता है।

यह भी पढ़ें

पीएम मोदी की नज़र में नोटबंदी से देश को मिले इतने सारे फायदे

ट्रांसजेंडर – मॉडलिंग करने के बाद बनना चाहती है एयर होस्टेस, खटखटाया SC का दरवाजा

हिंदुस्तान में 10 साल सजा काटकर, पाकिस्तानी फातिमा बोली ‘सलाम इंडिया’

Sponsored