page level


Wednesday, April 25th, 2018 10:00 PM
Flash

दादाजी के सपने को पूरा करने के लिए बनीं हॉकी प्लेयर, Commonwealth Games में रहेगी नज़र




दादाजी के सपने को पूरा करने के लिए बनीं हॉकी प्लेयर, Commonwealth Games में रहेगी नज़र



आमतौर पर देखा गया है कि, पहले के वक़्त में लोगो की सोच काफी अलग हुआ करती थी, जिसके चलते लड़कियों को घर से बाहर निकलने की परमिशन भी नहीं थी लेकिन आज हम एक ऐसी लड़की के बारे में बताएँगे जो अपने दादाजी की बदलती सोच के चलते Savita Punia आज हॉकी प्लेयर बन पाई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें, हम बात कर रहें है हरियाणा के सिरसा ज़िले के गाँव जोधकन में जन्म लेने वाली Savita Punia की ज़िन्दगी भी आम लड़कियों की तरह थी लेकिन उनके दादा, महेंद्र सिंह अपने दौर से आगे की सोच रखने वाले व्यक्ति थे।

सलमान खान को मिली जमानत

दरअसल, बीबीसी के एक इंटरव्यू में Savita Punia बताती है कि खेलों में उनकी कोई रुचि नहीं थी लेकिन ये उनके पिता और दादाजी की सोच और नज़रिये का नतीजा ही है जिसके चलते मैं आज अपने गाँव से बाहर निकलकर हॉकी स्टिक हाथ में पकड़ पाई। उनके दादाजी को क्रिकेट बिल्कुल पसंद नहीं था। उन्होंने दिल्ली में एक बार कुछ पुरुष खिलाड़ियों को हॉकी खेलते देखा और तभी से उनके भीतर अपनी पोती को हॉकी खिलाड़ी बनाने का जुनून सवार हो गया।

7 अप्रैल को क्यों मनाया जाता है World Health Day, जानिए क्या है मनाने का उद्देश्य

आपको बता दें, यह उस वक़्त की बात है जब हरियाणा के समाज में बेटियों को पढ़ाना ही एक बड़ी चुनौती की तरह था लेकिन महेंद्र सिंह उस दौरान बड़ा सपना देखने लगे थे। वर्ष 2004 में Savita Punia ने अपने दादाजी के लक्ष्य को अपना लक्ष्य बना लिया और हॉकी स्टिक हमेशा के लिए अपने हाथ में थाम ली। खैर सविता के कोच सुंदर सिंह ने उनके कद को देखते हुए उन्हें गोलकीपर बनाने का सुझाव दिया। इसके बाद से उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

Whatsapp पर भी सेफ नहीं है आपका डाटा…कंपनी ने खुद किया कबूल

उनके बेहतरीन प्रदर्शन के चलते भारतीय महिला हॉकी टीम ने 2017 में 13 साल बाद एशिया कप जीता। इतना ही नहीं बल्कि 2018 के विश्व कप के लिए क्वालिफ़ाई भी किया। इसके साथ ही 4 अप्रैल से ऑस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में शुरू हुए राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय महिला हॉकी टीम में बेहद अहम भूमिका में रहेंगी और सभी की उन पर नज़र रहेगी।

यह भी पढ़े:-

‘शिव’ राज में खुले में शौचालय जाने को मजबूर है ये हॉकी प्लेयर

जल्द भारत रत्न से सम्मानित होंगे हॉकी के जादूगर

पूर्व हॉकी प्लेयर ने मोहली में उठाया क्रिकेटर्स की सुरक्षा का जिम्मा

हॉकी-फुटबॉल की तरह अब क्रिकेटर्स को भी दिये जाएंगे रेड-यैलो कार्ड

Sponsored






You may also like

No Related News