Sunday, November 19th, 2017 06:45 AM
Flash




कुछ ऐसी रहीं हैं मध्य प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था




कुछ ऐसी रहीं हैं मध्य प्रदेश की शिक्षा व्यवस्थाEducation & Career

Sponsored




दुनिया में सभी अहम् पहलुओं में शिक्षा को सर्वोपरि रखा गया हैं। वैसे यह सही भी हैं क्योंकि शिक्षा की मदद से आप अपने उज्जवल भविष्य के साथ-साथ देश के विकास में भी अपना योगदान दे सकते हैं। इन सभी के बीच सोचने वाली बात यह हैं कि क्या सभी लोग शिक्षा को ग्रहण कर रहें हैं? खैर परेशान होने की जरूरत नहीं हैं क्योंकि आज हम आपको बताएँगे की भारत देश में शिक्षा साक्षरता का क्या हाल हैं और व्यक्ति तथा देश के विकास के लिए प्रशासन ने कौन-से अहम् फैसले लिए हैं:-

यह ख़ुशी की बात हैं कि, पिछले 15 वर्षो में शिक्षा के क्षेत्र में बहुत प्रगति हुई। जी हाँ! सन् 1950-51 में प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में बहुत प्रगति हुई थी। सन् 1950-51 में प्राथमिक शिक्षा के मान्यता प्राप्त विद्यालयों की संख्या करीब 2.1 लाख थी जो 1962-63 में बढ़कर 3.67 लाख हो गई और इसी दौरान विद्यार्थियों की संख्या लगभग 183 लाख से बढ़कर 313 लाख हो गई। वैसे माध्यमिक शिक्षा की प्रगति का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता हैं कि जहाँ सन् 1950-51 में कुल 20,844 माध्यमिक विद्यालय और लगभग 52.3 लाख विद्यार्थी और 2.1 लाख अध्यापक थे। वहीं सन्‌ 1962-63 में विद्यालयों की संख्या 82,846 और विद्यार्थियों की संख्या 226.70 लाख तथा अध्यापकों की संख्या 7.89 लाख हो गई थी। आपको बता दें, सन् 1964 में भारत में 62 विश्वविद्यालय थे जहाँ लगभग 12 लाख विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण करते थे। इसके बाद प्रशासन ने शिक्षा को लेकर कई बेहतर प्रयास किए। अधिक जानकारी के लिए यह पढ़ें:- http://bharatdiscovery.org

मध्यप्रदेश में शिक्षा साक्षरता    

शिक्षा के क्षेत्र में मध्यप्रदेश ने बहुत अधिक उन्नति की हैं। यदि हम साक्षरता दर की बात करें तो वर्ष 2001 में यहाँ 64.11 प्रतिशत थी और संपूर्ण भारत में 65 प्रतिशत थी जो वर्ष 2011 में बढ़कर 70.63 प्रतिशत और संपूर्ण भारत में 74.04 प्रतिशत हो गई। इसके साथ ही मध्यप्रदेश में महिला साक्षरता में सुधार लाने हेतु अधिक जोर दिया जा रहा हैं। मध्यप्रदेश शासन सभी को उचित गुणवत्ता तथा प्रासंगिक शिक्षा के अवसर प्रदान करने और साथ ही रोजगारोन्मुखी तथा कौशल विकास के पाठ्यक्रम (कोर्स) पर अधिकतम बल दे रही है। अधिक जानकारी के लिए यहाँ पढ़ें:- http://www.mp.gov.in/school-education2

मध्यप्रदेश राज्य की साक्षरता की रूपरेखा:-

साक्षरता दर (2001) साक्षरता दर (2011)
पुरूष    76.8   80.5
महिला    50.2   60

स्कूलों की संख्याँ:-

Schools in Madhya Pradesh
Government Primary Schools    83412
Aided Primary Schools (Private)    852
Unaided Primary Schools (Private)    12533
Government Upper Primary Schools    28479
Aided Upper Primary Schools (Private)    410
Unaided Upper Primary Schools (Private)    14773
Total High Schools (Including Private)    6636
Total Higher Secondary Schools (Including Private)    5211

Govt. Primary School Govt. Upper Primary School
Teacher in Position    191368    74552
Enrolment    6804712    3315843
Pupil-teacher Ratio (Private)    35.6    44.5

यह भी पढ़ें:-

केरल में है 100 फीसदी प्राथमिक शिक्षा की दर

International literacy day : दुनिया में हर 100 में से 16 लोग हैं अनपढ़

देश के इस राज्य में 2022 ऐसे गांव जहां नहीं है एक भी ग्रेजुएट

इस आदिवासी जिले ने दिए IIT JEE में 55 सिलेक्शन

Sponsored






Follow Us

Yop Polls

नोटबंदी का एक वर्ष क्या निकला इसका निष्कर्ष

Young Blogger

Dont miss

Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Subscribe

Categories