page level


Monday, September 24th, 2018 07:24 PM
Flash

अब मुफ्त में होगा गरीबों का इलाज, SC ने निर्देश किया जारी




अब मुफ्त में होगा गरीबों का इलाज, SC ने निर्देश किया जारी



देश में गरीबी के कारण हो रही बढ़ रही मौतों की संख्या पर अब विराम लग सकता है। क्योंकि अब कोई भी गरीब हो, अच्छे अस्पताल में अपना इलाज करा सकते हैं। इसके लिए उससे कोई भी फीस नहीं ली जाएगी। अगर ऐसा हुआ तो उक्त अस्पताल का लाइसेंस निरस्त कर दिया जाएगा। ये फैसला सुप्रीम कोर्ट ने दिया है।

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के सभी प्राइवेट हॉस्पीटल्स को कहा है कि- सभी अस्पतालों को मुफ्त में गरीबों का इलाज करना होगा। इससे पहले एनजीओ सोशल ज्यूरिस्ट की जनहित याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने भी अस्पतालों के खिलाफ फैसला सुनाया था।

फैसले को सुप्रीम कोर्ट में मिली चुनौती-

इस एग्रीमेंट के मुताबिक अस्पतालों को फ्री में गरीबों का इलाज करना था। ओपीडी पेशंट के मामले में 25 प्रतिशत और इन पेशंट्स के लिए इसकी सीमा 10 प्रतिशत की गई थी। हालांकि इसके बाद मूल चंद, सेेंट स्टीफंस और सीमाराम भरतिया जैसे नीजि अस्पतालोंं ने हाईकोर्ट के इस निर्देश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी।

इस बेंच में शामिल अरूण मिश्रा और जस्टिस अब्दुल नजीर ने कहा कि इस फैसले पर अमल हो रहा है कि नहीं कोर्ट इस पर निगरानी रखेगी। जो अस्पताल इस निर्देश का पालन नहीं करेगा, उसे लाइसेंस से हाथ धोना पड़ेगा।

बता दें कि इन अस्पतालों को गरीबों का मुफ्त में इलाज करने की शर्त पर ही जमीन दी गई है। ज्यादातर अस्पतालों का कहना है कि यहां होने वाला इलाज काफी महंगा है, ऐसे में हर गरीब का मुफ्त में इलाज करना संभव नहीं हो पाएगा। खासतौर पर लैब टेस्ट , दवाएं और सर्जिकल प्रोसेस महंगा होने की बात कही थी। इसके बजाए इन अस्पतालों ने गरीबों के लिए फ्री कंसल्टेंसी सर्विस देने का प्रस्ताव रखा था।

यह भी पढ़ें

सोनाली बेंद्रे हुई कैंसर की शिकार, इस देश में चल रहा है इलाज

“ब्रेन ट्यूमर” का बेहतर इलाज संभव, लंबी जिन्दगी जी सकते हैं मरीज भी

1.5 लाख का इलाज 9 हजार में, Modicare में 1354 मेडिकल पैकेज की लिस्ट तैयार, जानिए कितने में होगा कौन सा इलाज

Sponsored






You may also like

No Related News