page level


Tuesday, September 18th, 2018 06:56 PM
Flash

अब होगा दुश्मनों का सफाया, हथियार खरीदने में सबसे आगे है भारत.. अमेरिका, चीन भी रह गए पीछे




अब होगा दुश्मनों का सफाया, हथियार खरीदने में सबसे आगे है भारत.. अमेरिका, चीन भी रह गए पीछेAuto & Technology



मोदीराज में भारत काफी शक्तिशाली देश बनकर उभरा है। पीएम मोदी अपने मेक इन इंडिया कैंपेन के तहत भारत में ही हथियार बनाने की योजना बना रहे हैं, ताकि अपने दुश्मनों को मुंह तोड़ जवाब दे सकें। लेकिन अब भारत अपने दुश्मनों की छुट्टी कर देगा, क्योंकि अब दुनिया में सबसे ज्यादा हथियार खरीदने का रिकॉर्ड भारत के हाथ लगा है।


जी हां, दुनिया में भारत सबसे ज्यादा हथियार खरीदने वाला देश बन गया है। यहां तक की इस मामले में भारत ने चीन और अमेरिका को भी पीछे छोड़ दिया है।
हाल ही में आई इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार साल 2013-17 तक दुनियाभर के खरीदे गए हथियारों में भारत की हिस्सेदारी 12 फीसदी रही है। जबकि 2008-12 और 2013-17 के बीच भारत का हथियार आयात 24 प्रतिशत तक बढ़ गया है।

रूस और इजरायल से खरीदे सबसे ज्यादा हथियार-

भारत के बाद सउदी अरब, मिश्र, यूएई, ऑस्ट्रेलिया, अल्जीरिया, ईराक, पाक और इंडोनेशिया जैसे देशों में बाहर से हथियार खरीदे हैं। भारत ने 2013-17 के बीच सबसे ज्यादा हथियार रूस से खरीदे हैं। लगभग 62 प्रतिशत। वहीं अमेरिका से 15 फीसदी और इजरायल से 11 फीसदी हथियार भारत ने खरीदे हैं। यानि की रूस और इजरायल से हथियार खरीदने के मामले में भारत नंबर एक पर है।

चीन को जवाब देने के लिए अमेरिका से खरीदे करोड़ों के हथियार-

भारत हर हालत में चीन के बढ़ते दबाव को खत्म करने के लिए अमेरिका से हथियार खरीद रहा है। इस दिशा में पहल करते हुए भारत ने अमेरिका से 2013-17 के बीच 15 बिलियन डॉलर यानि 97000 करोड़ से ज्यादा के हथियार खरीदे हैं। जो साल 2008-12 के मुकाबले 557 प्रतिशत ज्यादा है।

चीन 5वा सबसे बड़ा विक्रेता-

वहीं दूसरी तरफ दुनिया में अपनी धाक जमाने के लिए अब चीन दुनिया में पांचवा सबसे बड़ा हथियारों का विक्रेता बन गया है। हालांकि इस मामले में नंबर 1 पर अभी अमेरिका बना हुआ है। उसके बाद रूस, फ्रांस और जर्मनी का नंबर आता है।

जानिए हथियारों को लेकर रिपोर्ट से जुड़े कुछ और जरूरी तथ्य:

1. भारत को हथियार निर्यात करने में रूस (62 फीसदी) के बाद अमेरिका (15%) और इजरायल (11%) की है।

2. भारत के बाद हथियार खरीदने के मामले में सऊदी अरब (10%), मिस्र (4.5%), संयुक्त अरब अमीरात (4.4%), चीन (4.0%), ऑस्ट्रेलिया (3.8%), अलजीरिया (3.7%), इराक (3.4%), पाकिस्तान (2.8%) और इंडोनेशिया (2.8%) हैं।

3. भारत के साथ लगातार संघर्षों के बीच 2018-12 और 2013-17 के बीच पाकिस्तान का हथियार आयात 36 प्रतिशत तक घटा है। पाकिस्तान विश्व हथियार आयात का 2.8 फीसदी की हिस्सेदारी रखता है।

4. भारत के साथ अमेरिका के कूटनीतिक रिश्तों में आई मजबूती के बाद पाकिस्तान का अमेरिका से हथियार आयात 76 प्रतिशत तक घटा है।

5. वहीं चीन का हथियार आयात 2008-12 और 2013-17 के बीच 19 फीसदी तक घटा है। इसके बावजूद चीन विश्व का पांचवां हथियार आयात करने वाला देश है।

6. अमेरिका विश्व का सबसे बड़ा हथियार निर्यातक देश है। 2013-17 के दौरान विश्व को हथियार निर्यात करने में अमेरिका की हिस्सेदारी 34 प्रतिशत रही है।

7. अमेरिका के बाद रूस, फ्रांस, जर्मनी और चीन सबसे बड़ा निर्यातक देश है। 2013-17 के दौरान ये पांच देश विश्व में हथियार निर्यात करने में 74 फीसदी की हिस्सदारी रखते हैं।

8. रिपोर्ट के मुताबिक मध्य-पूर्व एशिया में चल रहे संघर्षों के बीच 2008-12 और 2013-17 के बीच हथियारों की खरीददारी में 103 फीसदी का इजाफा हुआ है। 2013-17 के दौरान इस क्षेत्र में पूरे विश्व का 32 प्रतिशत हथियार आयात हुआ है।

9. अमेरिका और यूरोपीय देश मध्य-पूर्व में हथियार निर्यात करने में सबसे आगे रहे हैं। 2013-17 में 2008-12 की तुलना में सऊदी अरब का हथियार आयात 225 प्रतिशत बढ़ा है।

यह भी पढ़ें

किम जोंग की अमेरिका को धमकी, कहा- हथियारों का बटन हमेशा मेरे हाथ में…

CAG की रिपोर्ट को किया खारिज, कहा सेना के पास हथियारों की कमी नहीं – रक्षा मंत्री

देश के 11 मुख्यमंत्री के खिलाफ दर्ज हैं क्रिमिनल केस, कोई भी सीएम बेदाग नहीं

Sponsored