page level


Sunday, September 23rd, 2018 07:14 AM
Flash

इंदौर ने फिर रचा इतिहास, वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल हुआ इंदौर




इंदौर ने फिर रचा इतिहास, वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड में शामिल हुआ इंदौरSocial



भारत का दिल है मध्यप्रदेश और मध्यप्रदेश का दिल इंदौर है। इंदौर ने पहले तो दो बार स्वच्छता में नबंर वन आकर इतिहास बनाया वहीं दूसरी ओर 15 अगस्त से पहले 12 अगस्त को इंदौर ने एक और बड़ा इतिहास रच दिया। दरअसल इंदौर में 12 अगस्त को महूनाका से चाणक्य पुरी के बीच तिरंगा रैली आयोजित की गई जो विश्व की सबसे बड़ी तिरंगा रैली थी।

इस तिरंगा रैली में 12 किमी लंबा तिरंगा फहराया गया। इस कारण इंदौर का नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड में लिखा गया। वर्ल्ड रिकॉर्ड से सतीश शुक्ला इंदौर आए थे उन्होंने इसका प्रमाण पत्र आईडीए अध्यक्ष शंकर लालवानी को प्रदान किया था। शहर द्वारा रचे गए इस इतिहास के दौरान इंदौरियों में काफी उत्साह देखने को मिला।

ये तिरंगा रैली लोक संस्कृति मंच, लोकोपकार सेवा वाटिका वेलफेयर सोसायटी एवं डीएववी की संयुक्त मेजबानी में हुई। इसकी रिहर्सल पिछले 4 दिनों से चल रही थी। इस रैली में काफी मात्रा में इंदौर के युवाओं ने भाग लिया जिन्होंने 12 किमी लंबे तिरंगे को अपने हाथों में थामे रखा।

इस रैली में प्रमुख रूप से बीएसएफ, पुलिस, एपीटीसी, पहली और पंद्रहवी बटालियन, होमगार्ड, सेंट्रल एक्साइज, वन विभाग, एनसीसी, स्काउट एवं अन्य सुरक्षा बल मौजूद थे। इनके अलावा लगभग 30 से ज़्यादा समाजों के प्रमुख नागरिकों ने भी पारंपरिक वेशभूषा में देश की विविधता में एकता को प्रदर्शित किया।

इस अभियान में बोहरा, गोस्वामी, ब्राहम्ण, पंजाबी, नेपाली, गुजराती, राजपूत, मुस्लिम, सिंधी, राजस्थानी, कश्मीरी, जैन, केरलीयन, मराठी, अग्रवाल समाज के लोग थे। जिन्होंने अनोखे अंदाज में अपनी परंपरा को यहां प्रदर्शित किया। इस पूरी रैली को देखकर मानों ऐसा लग रहा था जैसे 15 अगस्त पर दिल्ली के लाल किले की रैली हो रही हो।

यह भी पढ़ें :

इन कमियों की वजह से देश का सबसे खराब शहर बना ” रामपुर”

अटल बिहारी और 13 नंबर का है खास कनेक्शन, जानिए कैसे….

रिलायंस Jio phone 2 की फ्लैश सेल आज से, ऐसे खरीद सकते हैं फोन

Sponsored