page level


Monday, July 23rd, 2018 12:07 AM
Flash

क्या अब इतिहास बनकर रह जाएगी NANO, रतन टाटा के लिए रही घाटे का सौदा




क्या अब इतिहास बनकर रह जाएगी NANO, रतन टाटा के लिए रही घाटे का सौदाAuto & Technology



मिडिल क्लास फैमिली का कार में बैठने का सपना पूरा करने वाली टाटा की नैनो कार अब क्या एक इतिहास बनकर रह जाएगी। हालातों को देखते हुए तो कुछ ऐसा ही माना जा रहा है। देश की सबसे चर्चित ऑटोमोबाइल कंपनी टाटा मोटर्स ने बीते जून में नैनो कार की सिर्फ एक यूनिट तैयार की है। इस बात का खुलासा होने के बाद अब सवाल उठ रहे हैं कि कंपनी ने जिस कार को गरीबों की कार बताकर साल 2008 में लांच किया था, क्या उसका सफर खत्म होने वाला है।

दरअसल, ऐसा इसलिए कहा जा रहा है कि क्योंकि बीते जून में जहां कंपनी ने सिर्फ एक कार बनाई वहीं बिक्री की बात करें तो बीते साल जून माह में ही घूरेलु बाजार में मात्र 3 यूनिट ही बिकी थीं। इससे जल्द ही अंदाजा लगाया जा रहा है कि अब नैनो जल्द ही कार का प्रोडक्शन बंद कर देगी। हालांकि कंपनी की तरफ से ऐसा कोई फैसला नहीं सुनाया गया है।

इस संबंध में टाटा मोटर्स के प्रवक्ता ने कहा है कि – लोगों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए फिलहाल नैनो का प्रोडक्शन जारी है। बता दें कि साल 2008 में टाटा मोटर्स ने मिडिकल क्लास फैमिली का कार का मालिक बनने का सपना पूरा करने के मकसद से नैनो कार लांच की थी। साल 2009 में कंपनी ने एक लाख रूपए की कीमत में इसके बेस मॉडल को मार्केट में उतारा था। हालांकि इसके बाद कंपनी को ज्यादा घाटा हुआ। इसके बाद रतन टाटा ने कहा था कि वे अपने वादे से मुकर नहीं सकते। लेकिन कुछ समय बाद रतन टाटा ने इतनी कम कीमत में कार लांच करना अपनी गलती बताया था।

चुनौतीपूर्ण रहा सफर-

लांच होने के बाद नैनो को कई बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ा। कार को हर बार नई चुनौती का सामना करना पड़ा। शुरूआत में पश्चिम बंगाल के सिंगूर में टाटा नैनो के प्लांट से नैनो का प्रोडक्शन होना था, लेकिन वहां कपनी को जमीन अधिग्रहण के साथ जमीन को लेकर किसानों के विरोधों का सामना करना पड़ा। इसके बाद कंपनी को नैनो का प्रोडक्शन गुजरात के साणंद में नए प्लांट में शिफ्ट करना पड़ा।

नैनो कुछ समय बाद टाटा मोटर्स के लिए घाटे का सौदा बन गई। टाटा संस के एक्स चेयरमैन ने दावा किया था कि इससे कंपनी को 1 हजार करोड़ का भारी नुकसान हुआ है। हालांकि अब इस गरीबों की कार का सफर खत्म होगा या नहीं ये कहना अभी मुश्किल है।

यह भी पढ़ें

4 बार हुआ था रतन टाटा को प्यार, अभी तक हैं कुंवारे

जल्द ही टाटा मोटर्स से 10000 इलेक्ट्रिक कारें खरीदेगी सरकार

ग्रेटेस्ट लिविंग बिजनेस माइंड्स” की लिस्ट में रतन टाटा और अन्य तीन भारतीयों ने पाई जगह

‘टाटा’ से पीछे हैं ‘अंबानी’ की कंपनी, जानिए कैसे?

Sponsored