page level


Monday, July 23rd, 2018 12:10 AM
Flash

साये की तरह साथ रहेगा ये उडऩे वाला “छाता”, जापानी कंपनी ने किया तैयार




साये की तरह साथ रहेगा ये उडऩे वाला “छाता”, जापानी कंपनी ने किया तैयार



अक्सर आप बारिश में छाता लेकर निकलते हैं। लेकिन ये छाता तब आपके लिए मुसीबत बन जाता है, जब पहले से ही आपके हाथ में बहुत सा सामान हो। तब एक हाथ से छाता संभालो या सामान। समझ नहीं आता। ऐसे में अगर आपको एक ऐसा छाता मिल जाए, जो साये की तरह आपके साथ चले, वो भी बिना हाथ में पकड़े, तो कैसा हो।

आप भले ही इसे सपना समझ रहे हों, लेकिन तकनीक में सबसे आगे जापान की एक आईटी कंपनी ने ऐसा ही एक कमाल कर दिखाया है। हाल ही में कंपनी ने एक उडऩे वाला छात्रा तैयार किया है। सेंसर की मदद से ये छाता खुद उस दिशा में उड़ता है, जहां आप जा रहे हों। इसे हाथ में पकडऩे की जरूरत नहीं होगी, बल्कि आपको बारिश और धूप से बचाने के लिए ये हर पल साये की तरह आपके ऊपर रहेगा। लिहाजा दोनों हाथों से सामान पकडऩे की स्थिति में ये छाता बहुत फायदेमंद होगा।

छाते में लगा है सेंसर-

इस छाते में एक सेंसर लगा है। यह ड्रोन की मदद से व्यक्ति के सर पर उड़ता रहता है। व्यक्ति किस दिशा में जा रहा है, ये पता करने के लिए इसमें सेंसर लगाए गए हैं। इस सेंसर का वजन 4 किग्रा है। जो फिलहाल बस 5 मिनट तक उड़ सकता है। आशी पॉवर नाम की कंपनी इस पर काफी समय से काम कर रही है।

ताकि ओलंपिक में हो सके उपयोग –

बता दें कि कंपनी ने इसेे 2020 में होने वाले ओलंपिक और पैराओलंपिक में इस्तेमाल करने के लिए तैयार किया है। कंपनी की 40 वर्षीय प्रेसिडेंट केजी सुजुकी ने बताया कि इस तरह का छाता बनाने की योजना उन्होंने तीन साल पहले बनाई थी, उनका मानना है कि दोनों हाथ व्यस्त होने की स्थिति में छाता अपना काम बखूबी करेगा। सिविल एयरोनॉटिक्स के नियमों के मुताबिक इस ड्रोन छाते को पब्लिक प्लेस पर किसी व्यक्ति या बिल्डिंग से 30 मीटर की दूरी पर होना चाहिए।

हालांकि इसके प्रोटोटाइप में अभी कुछ दिक्कतें आ रही है। अपेन ज्यादा वजन के कारण ये पांच मिनट से ज्यादा नहीं उड़ सकता। केंजी ने कहा है कि इसके लांच होने में कुछ परेशानियां तो हैं, लेकिन उम्मीद है हमारी मेहनत रंग लाएगी और ये उडऩे वाला छाता जल्द ही मार्केट तक पहुंचेगा।

यह भी पढ़ें

सामान्य नागरिक से शादी करेंगी जापान की राजकुमारी, छिन सकता है शाही दर्ज़ा

जापान में कयामत बनकर आया भूकंप, कई लोगों के मारे जाने की आशंका

जापानी बस ड्राइवरों ने की ऐसी हड़ताल जो भारत में कभी नहीं हुई

जापानी फर्म NEC स्थापित करेगा “सेंटर फॉर एक्सिलेंस”

Sponsored






You may also like

No Related News