page level


Saturday, September 22nd, 2018 04:18 AM
Flash

Jinson ने भारत को दिया 12वां “गोल्ड”, CG में भी सोना जीत बनाया था नेशनल रिकॉर्ड




Jinson ने भारत को दिया 12वां “गोल्ड”, CG में भी सोना जीत बनाया था नेशनल रिकॉर्डSports



इंडोनेशिया के जर्काता और पेलमबर्ग में चल रहे 18वें एशियन गेम्स का 12वां दिन यानि गुरूवार गर्व करने वाला रहा। भारत के खिलाडिय़ों ने ट्रैक एंड फील्ड में शानदार और जानदार प्रदर्शन किया है। इसमें जिनसन जॉनसन ने 1500 मीटर की दौड़ में जीत हासिल की है। इस तरह भारत की झोली में 13वां गोल्ड आ गया है। बता दें कि इससे पहले एथलीट जॉनसन ने 800 मीटर की दौड़ में भारत को सिल्वर मेडल का भागीदार बनाया था। उन्होंने अब गोल्ड जीतकर सबकी विश्वास जीत लिया है।

कॉमनवेल्थ में भी दिखा चुके हैं दम-

उनकी इस जीत से ऐसा लग रहा है कि नेशनल रिकॉर्ड तोडऩा उनकी आदत बन गई है। इससे पहले इसी साल में कॉमनवेल्थ खेलों में शानदार प्रदर्शन कर उन्होंने नेशनल रिकॉर्ड कायम किया था।  तब उन्होंने 1500 मीटर की दौड़ को पूरा करने के लिए सैकंड का अपना सर्वश्रेष्ठ समय निकाला था।

जिनसन जॉनसन 1500 मीटर दौड़ में शुरुआत में तो काफी पीछे रहे लेकिन अंतिम लैप में उन्होंने अपनी रफ्तार पकड़ी और अंतम 100 मीटर वो सबसे आगे निकल गए। अंतिम 100 मीटर में जिनसन जॉनसन ने दूसरे नंबर पर रहे धावक को लंबी दूरी के अंतर से पीछे छोड़ा। जिनसन जॉनसन ने ये दौड़ 3 मिनट 44 सेकेंड और 72 मिलिसेकेंड में पूरी की। दूसरे नंबर पर इरान के मोरादी आमिर (3:45.62) रहे और तीसरे नंबर पर बहरीन के मोहम्मद तियोली (3:45.88) रहे।


जॉनसन का जन्म 15 मार्च 1991 में केरल के चक्कीतपाढ़ा के कोझिकोड में हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूलिंग सेंट जॉर्ज हाई स्कूल से की और कोट्अयम के बैसिलियस कॉलेज से ग्रेजुएशन पूरी की। 2009 में इंडियन आर्मी जॉइन करने से पहले उन्होंने केरल स्पोट्र्स काउंसिल स्पोट्र्स हॉस्टल में ट्रेनिंग ली फिर 2015 में हैदराबाद में जूनियर कमीशन्ड ऑफिसर की पोस्ट पर नियुक्त हुए।

ओलंपिक से पहले जॉनसन 2015 में वुहान में हुए एशियन एथलेटिक चैंपियनशिप में 800 मीटर की दौड़ में भी सिल्वर जीत चुके हैं। इसके अलावा इसी साल उन्होंने थायलैंड में हुए एशियन ग्रांड प्रिक्स में तीन गोल्ड मेडल भारत की झोली में डाले थे। वहीं इसके बाद बैंगलोर में जुलाई 2016 में हुए समर ओलंपिक्स में 1:45:98 का समय निकालकर 800 मीटर की दौड़ में क्वालिफाई किया था।

यह भी पढ़ें

AG 2018 : टूट सकता है 2014 का रिकॉर्ड, जानिए एशियन खेलों में भारत का कैसा रहा सफर

इस देश ने अपने नाम किया एशियन गेम्स का पहला गोल्ड मेडल…

AG 2018: खेल के दौरान काफी दर्द में थी स्वप्ना , उनकी जिद ने दिला दिया Gold

दो साल पहले ही छोडऩे वाले थे एथलेटिक्स, फिर जीतने की धुन ने बनाया चैंपियन

Sponsored