page level


Friday, June 22nd, 2018 10:37 PM
Flash

‘शिव’ राज में खुले में शौचालय जाने को मजबूर है ये हॉकी प्लेयर




‘शिव’ राज में खुले में शौचालय जाने को मजबूर है ये हॉकी प्लेयरSports



भारत को शौचमुक्त बनाना और हर घर में शौचालय बनाना ये पीएम मोदी का सपना है लेकिन ये सपना किस हद तक साकार हो रहा है इस बात की असलियत को आप इस ख़बर के माध्यम से जान पाएंगे। भारत का दिल यानि मध्यप्रदेश जो स्वच्छता सर्वेक्षण में दो बार टॉप पर आ चुका है वहां हालात ऐसे है कि एक हॉकी प्लेयर को खुले में शौच करने जाना पड़ रहा है। इस लड़की ने हाल ही में अपनी परेशानी को मीडिया को बताया और सीएम शिवराज सिंह चौहान से शौचालय बनवाने की मदद मांगी।

भारतीय जूनियर हॉकी टीम की गोलकीपर है लड़की

भारतीय जूनियर हॉकी टीम की गोलकीपर खुशबू खान की झुग्गी का शौचालय तोड़ दिया गया है और पूरा परिवार खुले में शौच जाने को मजबूर है. देश की जूनियर हॉकी टीम की गोलकीपर खुशबू खान राजधानी के जहांगीराबाद इलाके में झुग्गी में अपने परिवार के साथ रहती हैं। वे इन दिनों बेहद तनाव के दौर से गुजर रही हैं।

कड़कड़ाती ठंड में खुले में जीने को मजबूर

खुशबू के शौचालय को तो पहले ही तोड़ा जा चुका था, अब झुग्गी को भी तोड़ने की धमकियां दी जा रही हैं. उन्हें इस बात का डर सता रहा है कि पहले तो पूरा परिवार खुले में शौच के लिए जाने को मजबूर हुआ और अब इस ठंड में उन्हें खुले आसमान के नीचे जीवन जीने पर मजबूर होना पड़ेगा।

इस तरह बताई अपनी पीड़ा

 

खुशबू ने कहा कि वह पशु चिकित्सालय के पास एक कमरे की झुग्गी में अपने परिवार के सात सदस्यों के साथ रहती हैं। जब वह हॉकी राष्ट्रीय शिविर (दिसंबर 2016 और जनवरी 2017) में थीं, तब उन्हें पता चला कि उनकी झुग्गी का शौचालय जनवरी 2017 में तोड़ दिया गया। आज तक उनकी झुग्गी में शौचालय नहीं है, लेकिन नगर निगम के जनसंपर्क अधिकारी हरीश गुप्ता ने इस तरह की घटना से अनभिज्ञता जाहिर की।

नगर निगम के पास नहीं है जानकारी

उन्होंने कहा, “शौचालय क्यों तोड़ा गया, किसने तोड़ा इसकी जानकारी नगर निगम के पास नहीं है. लेकिन इस बारे में छानबीन की जाएगी और जल्द से जल्द समस्या का उचित समाधान किया जाएगा, क्योंकि यह एक खिलाड़ी का मामला है.“’ खुशबू का कहना है कि वह अपनी समस्या से मुख्यमंत्री से लेकर जिलाधिकारी तक को अवगत करा चुकी हैं. उन्होंने तात्या टोपे नगर स्टेडियम के पास मकान आवंटित करने की मांग की है, मगर आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला.

सीएम से किया आग्रह

खुशबू बताती हैं कि उनके घर से स्टेडियम सात किलोमीटर से अधिक दूर है. उन्हें दो बार पैदल जाना पड़ता है. एक बार जिम के लिए और दूसरी बार हॉकी अभ्यास के लिए. इससे एक तरफ शारीरिक थकान तो दूसरी तरफ समय की बर्बादी होती है. वह चाहती हैं कि सरकार कोई भी छोटा-सा मकान स्टेडियम के पास उन्हें आवंटित कर दे, ताकि वे अपने खेल को और निखार सकें.’’खुशबू ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से आग्रह किया है. खुशबू ने कहा, ’’मैं उनसे सिफारिश करती हूं कि वे मेरे परिवार को सुविधा प्राप्त करवाएं.”

Sponsored