page level


Tuesday, August 14th, 2018 03:45 PM
Flash

कौन बनेगा “कर्नाटक का किंग”, आज होगा फैसला…




कौन बनेगा “कर्नाटक का किंग”, आज होगा फैसला…Politics



कर्नाटक में ही नहीं बल्कि आज पूरे देश की निगाहें कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम पर टिकी हैं। हर किसी को चुनाव परिणाम का बड़ी बेसब्री से इंतजार है। अब बस कुछ ही घंटों में साफ हो जाएगा कि कर्नाटक की जनता ने किसका साथ दिया और किससे मुंह मोड़ा। कर्नाटक में 40 केंद्रों पर मतगणना शुरू हो चुकी है। वोटों की गिनती कड़ी निगरानी में की जा रही है।

चुनाव के बाद एग्जिट पोल में भी किसी दल को स्पष्ट बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है। राज्य में त्रिशंकु विधानसभा के आसार हैं। ऐसे में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा की पार्टी जनता दल (एस) ‘किंगमेकर’ की भूमिका निभा सकती है। मुख्य मुकाबला राज्य में सत्ताधारी कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और जनता दल सेक्युलर के बीच है। 12 मई को कर्नाटक में 222 सीटों के लिए वोट डाले गए थे।

लेकिन कांग्रेस के सीएम सिद्धारमैया ने दावा किया है कि पार्टी फिर से सत्ता में वापसी करेगी। ऐसा ही दावा बीजेपी के सीएम उम्मीदवार बी एस येदयुरप्पा ने भी किया है।

कांग्रेस ने प्लान B पर शुरू किया काम

गोवा और मणिपुर में ज्यादा सीटें मिलने के बाद भी सरकार बनाने में नाकाम रह जाने के बाद कांग्रेस ने सीख लेते हुए इस बार परिस्थितियों का आकलन कर प्लान बी भी तैयार किया है। इसी प्लान के तहत चुनाव परिणाम आने से पहले ही कांग्रेस ने अपने भरोसेमंद नेता गुलाम नबी आजाद और अशोक गहलोत को एक दिन पहले बेंगलूरु भेज दिया है ताकि हर संभावित परिस्थिति में भी सत्ता की बागडोर कांग्रेस के हाथों में ही बनी रहे।

कांग्रेस के लिए इसलिए अहम है कर्नाटक-

कांग्रेस के लिए कर्नाटक इसलिए भी अहम है क्योंकि यही एक बड़ा राज्य अब कांग्रेस शासित रह गया है। ऐसे में अगर पार्टी हारी तो न सिर्फ कांग्रेस की साख को बड़ा झटका लगेगा। यहां कांग्रेस के लिए जीत किसी अमृत से कम नहीं होगा। वहीं बीजेपी राज्यों में अपने जीत के सिलसिले को लेकर यहां भी आश्वस्त है। अगर बीजेपी को यहां जीत मिलती है तो न सिर्फ उसकी सत्ता में वापसी होगी बल्कि 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए पीएम मोदी का रास्ता भी साफ होगा।

बता दें कि  12 मई राज्य में विधानसभा चुनाव के लिए 72.13 फीसदी मतदान हुआ था। 1952 के बाद इस चुनाव में मतदान प्रतिशत सबसे ज्यादा रहा।

यह भी पढ़ें

मैसूर के नाम से मशहूर था Karnataka, जानिए इस राज्य की रोमांचक बातें….

Karnataka Rally: 1 रूपए में “सैनेट्री नैपकिन” उपलब्ध कराएगी BJP, जानिए और क्या कहा घोषणा पत्र में….

Karnataka Govt. Grant Rs.10 Crore To Agriculture Innovation Startups

कर्नाटक चुनाव 2018: 1985 से अब तक सत्ता में वापस नहीं लौटी कोई पार्टी

 

Sponsored