page level


Tuesday, August 14th, 2018 09:10 PM
Flash

सरकारी स्कूल में पढ़े हरिवंश हैं एक पत्रकार भी, जानिए इनके बारे में खास बातें…




सरकारी स्कूल में पढ़े हरिवंश हैं एक पत्रकार भी, जानिए इनके बारे में खास बातें…Politics



आज राज्यसभा में उपसभापति के पद के लिए मतदान होना है, जिसका फैसला आज आ जाएगा। जेडीयू के हरिवंश नारायण सिंह जीत के दावेदार नजर आ रहे हैं, क्योंकि बीजेडी की ओर से उन्हें समर्थन मिलने का ऐलान हो गया है। बता दें कि एक राजनेता से पहले हरिवंश पत्रकार भी हैं। उन्होंने पत्रकारिता में डिप्लोमा की डिग्री हासिल की है। यूपी के बलिया जिले के रहने वाले राज्यसभा सांसद हरिवंश नारायण को उपसभापति पद का उम्मीदवार बनाए जाने पर उनके गांव में खुशी का माहौल है। सभी चाहते हैं कि एक होनहार और सच्चाई के लिए लडऩे वाला पत्रकार इस पद का दावेदार बने।

वरिष्ठ पत्रकार हरिवंश का जन्म 30 जून 1956 को दलजीत टोला सिताबदियारा में हुआ था। उन्होंने अपनी शुरूआत पढ़ाई टोला राय स्थित सरकारी स्कूल से शुरू की। इसके बाद जेी इंटरकॉलेज सेवाश्रम से 1971 में हाईस्कूल पास करने के बाद वे वाराणासी पहुंचे। वहां यूपी कॉलेज से 12वीं और उसके बाद काशी हिंदू यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन और पत्रकारिता में डिग्री हासिल की।

अप्रैल 2014 में उन्हें बिहार से राज्यसभा के लिए चुना गया। उनका कार्यकाल 2020 में पूरा होगा। बीएचयू से पत्रकारिता में डिग्री हासिल करने के दौरान 1977-78 में टाइम्स और इंडिया ग्रुप में उन्हें प्रशिक्षु पत्रकार के रूप में चुना गया। जिसके बाद वे टसइम्स ग्रुप की ही मैगजीन धर्मयुग के उपसंपादक बने। 1981-84 तक हैदराबाद और पटना में उन्होंने बैंक ऑफ इंडिया में नौकरी की। 1984 में फिर पत्रकारिता में वापसी की और आनंद बाजार पत्रिका की रविवार साप्ताहिक पत्रिका में सहायक संपादक रहे।

पढ़ाई केो लेकर काफी सीरियस थे हरिवंश-

हरिवंश से जुड़े लोग बताते हैं कि हरिवश्ंा शुरू से ही पढ़ाई को लेकर सीरियस थे। बहुत कम बोलते थे, लेकिन सवाल करने में और तर्क-विर्तक करने में सबसे आगे रहते थे। सभी को यकीन था कि वे देश के लिए कुछ बड़ा जरूर करेंगे। हाईस्कूल में हरिवश्ंा को मैथ पढ़ाने वाले टीचर सुरेश कुमार गिरी ने बताया कि वे हमेशा आगे की सीट पर बैठकर केवल पढ़ाई में ध्यान लगाते थे। स्कूल के सबसे होनहार छात्रों में से एक रहे। आज भले ही इतने बड़े पद पर हों, लेकिन अपने गुरूओं और गांववालों के प्रति उनका सम्मान कम नहीं हुआ। वे सामाजिक कार्यकर्ता जयप्रकाश नारायण से काफी प्रभावित हैं।

माई नेटा पोर्टल के अनुसार, हरिवंश नारायण सिंह के खिलाफ तीन आपराधिक मामले दायर किए गए हैं। उनके पास 4,76,08,650 रुपये और 43,31,0 9 8 देनदारियां हैं।

यह भी पढ़ें

कौन “हरि” बनेंगे राज्यसभा के उपसभापति, मतदान आज

रिटायर हो रहे हैं राज्यसभा के 58 सांसद, जानिए किसकी रही कैसी परफॉर्मेंस

यूपी में दिखाया दम, राज्यसभा में अभी भी कम

अब 22 भाषाओं में अपनी बात कहेंगे सांसद, जोड़ी गई ये नई 5 भाषाएं भी

ज्यसभा चुनाव : 7 राज्यों की 26 सीट के लिए वोटिंग शुरू, बीजेपी पार कर सकती है ये आंकड़ा

Sponsored