page level


Tuesday, September 18th, 2018 07:39 PM
Flash

जानिए घर में लाएं कौन से गणेशजी की मूर्ति, हर मूर्ति का महत्व है अलग




जानिए घर में लाएं कौन से गणेशजी की मूर्ति, हर मूर्ति का महत्व है अलगSpiritual



गणेश चतुर्थी आने वाली है। गणेश चौथ पर गाजे-बाजे के साथ गणपति हमारे घर विराजित होने वाले हैं। अधिकतर घरों में गणेशजीकी प्रतिमा स्थापित करके 10 दिनों तक ये उत्सव मनाया जाता है। लेकिन गणेश प्रतिमा की कुछ ऐसी खास बाते हैं, जिन्हें लेकर हर समय असमंजस की स्थिति बनी रहती है। जैसे घर लाए गए गणपति की सूंड कैसी होनी चाहिए, सीधी होनी चाहिए या टेढ़ी होनी चाहिए, दाईं होना चाहिए या फिर बाईं ओर होनी चाहिए। प्रतिमा खड़ी हो या बैठी और कौन से विग्रह की स्थापना करनी चाहिए। ये सब सवाल हर चतुर्थी पर लोगों के मन में आते हैं। तो आइए आज हम आपको बताते हैं कि चतुर्थी पर कैसे गणपति की मूर्ति अपने घर लाएं कि घर में सुख और समृद्धि बनी रहे।

कौन से सूंड वाले गणपति हैं शुभ-

दोनों ही तरफ सूंड वाले गणपति शुभ होते हैं। दाई सूंड वाले गणपति को विनायक कहा जाता है तो वहीं वांयी ओर सूंड वाले गणपति को वक्रतुंड कहते हैं। शास्त्रों में दोनों की पूजा का विधान भी अलग-अलग बताया गया है। अगर आप घर में बांयी सूंड वाले गणपति लाते हैं तो वो भी अच्छी है। माना जाता है कि इस दिशा में सूंड वाले गणेशजी सकारात्मक नतीजे लाते हैं। ये रचनात्मक बुद्धि के गणपति शुभ माने जाते हैं। इनकी पूजा में नियम ज्यादा नहीं मानने पड़ते।

# दाहिनी सूंड वाले गणपति ले आए हैं तो पूजा समातान्य पद्धति से नहीं की जाती। घर में दक्षिणामुखी मूर्ति का पूजन नहीं करना चाहिए। इन्हें सिद्धी विनायक भी कहते हैं। सूति वस्त्र पहनकर पूजा नहीं कर सकते।


# गणेशजी की मूर्ति बैठी मुद्रा में स्थापित करनी चाहिए। इस बात का ध्यान रखें कि गणपति की मूर्ति हमेशा मिट्टी की होनी चाहिए। साथ ही गणेशजी की पूजा भी बैठकर ही करनी चाहिए। शास्त्रों के अनुसार बैठकर पूजा करने से मनुष्य की बुद्धि स्थिर रहती है।

# मूर्ति घर लाते समय ध्यान रखें कि उनकी सवारी चूहा उनके साथ होना चाहिए। साथ ही उनके एक हाथ में एक दंत और मोदक जरूर होना चाहिए।

# जो लोग संतान सुख की कामना रखते हैं, उन्हें अपने घरों में बाल गणेश की प्रतिमा जरूर रखनी चाहिए। बाल गणेश के पूजन से संतान सुख की प्राप्ति होती है।

# घर में आनंद और उत्साह चाहते हैं तो उन्नति के लिए भगवान महागणेश की वो मूर्ति रखें जो नृत्य की मुद्रा में हो। इससे घर में धन और आनंद की वृद्धि होती है।

यह भी पढ़ें

क्या आप जानते हैं गणेशजी के 21 नाम और उनके अर्थ

महाराष्ट्र ही नहीं यहाँ पर भी ‘गणेश चतुर्थी’ को धूमधाम से मनाया जाता है

Ganesh Chaturthi 2018: विभिन्न राज्यों में गणपति को लगाते हैं इन चीजों का भोग

 

Sponsored