page level


Friday, June 22nd, 2018 10:20 PM
Flash

लड़की की शादी में हो रही है देरी तो राशि के अनुसार जरूर करें ये उपाय




लड़की की शादी में हो रही है देरी तो राशि के अनुसार जरूर करें ये उपायSpiritual



भारत में जब भी किसी घर में बेटी पैदा होती है तो उसके पिता को उसकी शादी की चिंता लग जाती है। वो उसके जन्म के समय से ही उसकी शादी के लिए पैसा जोड़ना शुरू कर देता है। कई बार लड़कियों की शादी काफी जल्दी हो जाती है लेकिन कई बार लड़कियों की शादी में समय लग जाता है ऐसे में पिता को चिंता सताती है कि कहीं उसकी बेटी की शादी की उम्र न निकल जाए। वैसे शास्त्रों में कुछ ऐसे उपाय हैं जिन्हें करने से लड़की की शादी में आ रहा विघ्न दूर हो जाता है। आज हम आपको यहां इसी के बारे में बताने वाले हैं।

1. मेष राशि – सप्तम भाव के स्वामी शुक्र की नेष्ट स्थिति होने पर शुक्रवार को दुर्गाजी की मूर्ति या चित्र पर लाल पुष्प अर्पित करें। घी का दीपक जलाकर इस मंत्र का जाप 108 बार करें।

“हे गौरी ! शंकरार्धंगि। यथा त्वं शंकर प्रिया। तथा मां कुरू कल्याणि कान्ताकान्तां सदुर्लभाम।।”

2. वृष- सप्तमेश मंगल के व्रत, दान करें और इस मंत्र का जाप करें।

“कात्यायिनी महामाये महायोगिनीधीश्वरी। नंद गोपसुतं देवि! पतिं मे कुरू ते नमः।।”

3. मिथुन -सप्तमेश गुरू की प्रिय वस्तुओं का दान करें। और इस मंत्र का जाप करें।

“ओम देवेंद्राणि! नमस्तुभ्यं देवेन्द्रप्रियभामिनी। विवाहं भाग्यमारोग्यं शीघ्रलाभं च देहि मे।।”

4. कर्क – सप्तमेश शनि की शांति के लिए शनिवार का व्रत करें और इस मंत्र का जाप करें।

“ओम ऐं सीं श्रीं शनैश्चराय नमः”

5. सिंह – आपका सप्तमेश शनि है अतः आप शनिवार का व्रत करें। शनि की प्रिय वस्तुओं का दान करें। इस मंत्र का जाप शनिवार को करें।

“ओम प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः।”

6. कन्या – सप्तमेश गुरू के दान, मंत्र तथा गुरूवार का व्र्रत करें। अपने कुल देवता की पूजा करें और इस मंत्र का जाप करें।

“ओम सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ये त्रयंबके गौरि नारायणि नमोस्तु ते।।”

7. तुला- सप्तमेश मंगल के व्रत दान तथा जप करें।

“ओम हीं गौयैं नमः।।”

8. वृश्चिक- विजया सुंदरी मंत्र ‘ओम विजया सुंदरी क्लीं।।’ और सप्तमेश शुक्र के मंत्र ‘ओम सीं श्रीं शुक्राय नमः।। का 108 बार जाप करें।

9. धनु- सप्तमेश बुध का व्रत करें। बुध की प्रिय वस्तुओं का दान करें। मंत्र का यथा शक्ति जाप करें।

“हे माते! त्वं शक्तिस्तवं स्वाहा त्वं सावित्री सरस्वती । पतिं देहि गृहं देहि सुतान देहि नमो स्तुते।।”

10. मकर – सप्तमेश चंद्रमा की शांति के लिए सोमवार का व्रत करें। मंत्र का जाप करें।

“ओम शं शंकराय सकल जन्मार्जित पापविध्वंसनाय। पुरूषार्थचतुष्टायलाभाय च पतिं देहि कुरू कुरू स्वाहा।”

11. कुंभ – इस मंत्र का शुभ मुहूर्त में जाप करें।

“ओ श्रीं क्लीं मम वांछित देहि देहि स्वाहा।।”

12. मीन – सप्तमेश बुध के व्रत व दान करें। इस मंत्र का जप करें।

“फलै मन्मथाय महाविष्णु स्वरूपाय, महाविष्णु पुत्राय, महापुरूषाय। पति सुखं मोहे शीघ्रं हि।।”

यह भी पढ़ें

35 की उम्र के बाद बदल जाती है इन राशियों के लोगों की किस्मत

घर में इस जगह भूलकर भी न लगाएं कांच, बर्बाद कर सकता है आपका जीवन

इन 3 राशियों के लोग करते हैं सबसे ज्यादा लव मैरिज, कहीं आप भी तो नहीं हैं इनमें से एक

Sponsored