page level


Wednesday, September 19th, 2018 01:13 PM
Flash

ज़िन्दगी की उलझनों को दूर कर सरल बनाती है ‘लाइफ : ए ब्लाइंड रेस’




ज़िन्दगी की उलझनों को दूर कर सरल बनाती है ‘लाइफ : ए ब्लाइंड रेस’Social



जीवन का यह लंबा सफर और ढेर सारे सपने। कैसे पूरे होंगे? नित-नई परेशानियां-अड़चनों से भरपूर यह सफर हमारे कोमल हृदय से उठे सपनों को चकनाचूर कर देता है। वजह भी स्पष्ट है, हम बगैर सोचे-समझे इस सफर को तेज गति से अंधी दौड़ के साथ पूरा करने में लगे हैं। मुकाम किसी को भी हासिल नहीं हो रहा है। इस स्थिति में हम क्या करें? कैसे करें? यह प्रश्न खड़े होते हैं। साथियों, यहीं थोड़ा रूकें, जीवन के सभी पहलुओं को समझें और उसके बाद आगे बढ़ें। निश्चित तौर पर जीवन की यात्रा खूबसूरत होकर अपने मुकाम तक पहुंचेगी।

वैसे आप अगर ज़िन्दगी में आने वाली इन परेशानियों से परेशान रहते हैं तो आपके लिए एक किताब है जो काफी ख़ास है। ये किताब ज़िन्दगी के गहरे अनुभवों का समावेश है। इसका नाम ‘लाइफ : ए ब्लाइंड रेस’ है। किताब के लेखक सुमेश खंडलेवाल जी ने हमें किताब के बारे में कई जानकारियां दी जिन्हें हम आपसे साझा करने जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि इस किताब के पन्ने दर पन्ने ज़िन्दगी की कई समस्याओं के बारे में बताया है और उन्हें किस तरह हल करना चाहिए इस बारे में भी गहराई से बताया गया है। जीवन रूपी खेल क्या है इसे हमें समझ कर आगे बढ़ना चाहिए। जिस प्रकार शतरंज की बिसात पर खेल शुरू करने से पहले हमें खेल में उपयोग आने वाले सभी मोहरों के बारे में अच्छे से जानकारी होना जरूरी है। खेल के नियम समझना जरूरी है। उसी प्रकार जीवन के इस खेल को भी शुरू करने के पूर्व अच्छे से समझ लेना जरूरी है, कौन क्या है, कहां है?

इस किताब की शुरूआत प्रकृति से होती है जहां हम सभी सांस ले रहे हैं। जहां हम सभी का जीवन चल रहा है। प्रकृति से होते हुए इस स्वास्थ्य, धर्म, शिक्षा, परिवार, दोस्त आदि के बारे में बताया गया है। किस तरह ये आपके जीवन में जरूरी हैं और जीवन को प्रभावित करते हैं। ये सारी ही पहलू आपकी ज़िन्दगी में एक महत्वूपर्ण भूमिका निभाते हैं, कहीं न कहीं आपकी ज़िन्दगी को प्रभावित करते हैं। इन सभी पहलूओं पर एक गहन अध्ययन आपको इस किताब में मिलेगा। अगर आप इसे खरीदना चाहते हैं तो आप youthenspublication@gmail.com पर मेल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

जानते हैं क्यों शुक्रवार को ही रिलीज होती हैं “फिल्में”, वजह हैं बड़ी दिलचस्प

“हॉलीवुड” से कैसे अलग है “बॉलीवुड”, जानिए ये बड़े अंतर

नवजातों की जिन्दगी बचाता “मदर मिल्क बैंक”, जानिए यहां से दूध लेना है कितना सुरक्षित

Sponsored