page level


Monday, February 19th, 2018 03:30 PM
Flash

मकर संक्रांति पर क्या करें दान, क्या है ख़ास मुहूर्त




मकर संक्रांति पर क्या करें दान, क्या है ख़ास मुहूर्तSpiritual




प्रकृति, ऋतु परिवर्तन और खेती से जुड़ा त्यौहार करीब आ गया है। दरअसल, हम मकर संक्रांति के पर्व की बात कर रहें है। इस दिन खिचड़ी का भोग लगाया जाता है और गुड़-तिल, रेवड़ी, गजक का प्रसाद भी बांटा जाता है। बताया जाता है कि, इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है। आपको बता दें, लगभग 80 साल पहले मकर संक्रांति 12 या 13 जनवरी को मनाई जाती थी लेकिन बदलते वक़्त और पृथ्वी के घूमने की गति के चलते यह धीरे-धीरे 14 या 15 जनवरी को मनाई जनि लगी है।

2018 में कब है संक्रांति

2018 की संक्रांति दो दिनों का पर्व है। इस दौरान एक दिन संक्रांति होगी और दूसरे दिन पुण्यकाल करने का मुहूर्त होगा। ध्यान रहें, मकर संक्रांति का विशेष पुण्यकाल 14 जनवरी 2018 को रात 8 बजकर 8 मिनट से 15 जनवरी 2018 को दिन के 12 बजे तक रहेगा।

इसके साथ ही साल 2018, विक्रम संवत् 2074 में संक्रांति का वाहन महिष और उपवाहन ऊंट रहेगा। इस साल संक्रांति काले वस्त्र व मृगचर्म की कंचुकी धारण किए, नीले आक के फूलों की माला पहने, नीलमणि के आभूषण धारण किए, हाथ में तोमर आयुध लिए, दही का भक्षण करती हुई दक्षिण दिशा की ओर जाती हुई रहेगी।

मकर संक्रांति का महत्व क्या है?

इस दिन जप, तप, दान, स्नान, श्राद्ध, तर्पण आदि धार्मिक कार्यों का खास महत्व होता है। शास्त्रों के अनुसार इस दिन दिया गया दान “सौ गुना” बढ़कर मिलता है। इसके साथ ही मान्यता है कि, शुद्ध घी और कंबल का दान मोक्ष की प्राप्ति कराता है। वैसे मकर संक्रांति से सूर्य उत्तरी गोलार्द्ध की ओर आना शुरू हो जाता है इसलिए इस दिन से रातें छोटी और दिन बड़े होने लगते हैं। मकर संक्रांति पर सूर्य की राशि में हुए परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होना माना जाता है।

यह भी पढ़े:-

हेल्दी रहना है, तो पतंग उड़ाएं……

परंपरा और प्रतिस्पर्धा का काइट फेस्टिवल

संक्रांति पर बनाएं मूंगदाल की बर्फी

उल्लास और उमंग का पर्व संक्रांति

Sponsored