page level


Sunday, August 19th, 2018 11:19 AM
Flash

मेघा परमार विश्व की चोटी पर तिरंगा फहराने वाली इस प्रदेश की पहली बेटी बनी




मेघा परमार विश्व की चोटी पर तिरंगा फहराने वाली इस प्रदेश की पहली बेटी बनी



मध्य प्रदेश के सीहोर के छोटे से गांव की मेघा परमार अपने बड़े से सपने को पूरा कर लिया है। अपने जुनून और विश्वास के दम पर सबसे दम पर विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर फतह करके प्रदेश का नाम रोशन कर दिया है। 24 वर्षीय मेघा ने 29029 फीट ऊंचाई पर 23 मई को सुबह 10.45 पर तिरंगा फहराया है। चोटी पर पहुंचने में मेघा को 16 घंटे का टाइम लगा। इस बीच में मेघा ने एक तरह से कई परेशानियों का सामना किया है।

एवरेस्ट की चोटी पर सीहोर की मिटटी और पत्थर रख दिए

मेघा ने तिरंगा फहराने के बाद एवरेस्टी की चोटी पर सीहोर की मिटटी और पत्थर भी रख दिए। एवरेस्ट फतह करने वाली मेघा मध्य प्रदेश की पहली महिला बनीं हैं जिसने इस चोटी की चढ़ाई की हैण् एवरेस्टर फतह करने के लिए मेघा 22 मार्च को सीहोर से रवाना हुई थीं।

सभी इंडियन क्रिकेटर्स हेलमेट पर लगाते हैं तिरंगा लेकिन धोनी क्यों नहीं करते ऐसा, जानें

नहीं चढ़ पाती पहाड़ी पर

स्ूत्रों के मुताबिक उस एवरेस्ट की चौटी पर पहुंचने से पहले मेघा की तबीयत भी बिगड़ी थी। एक वक्त पर उसे ऐसा भी लगा था कि वह इसे पूरा नहीं कर पाएंगी। क्योंकि उसकी जिद थी कि वह बिना मास्क के ऊपर जाना चाहती है। लेकिन इस वजह से उसकी हालात बिगड़ गई और डॉक्टर ने उन्हें ऊपर चढ़ने की अनुमति नहीं दी थी। लेकिन अगर वह ऑक्सीजन मास्क को नहीं लगाती तो वह अपना सपना पूरा नहीं कर पाती। वह अपना सपना पूरा करना चाहती थी। बस इसलिए ऑक्सीजन मास्क लगाया और चढ़ गई पहाड़ी पर अपने सपने को छूने के लिए।

आज ही के दिन विश्व के सर्वोच्च ग्लेशियर पर लहराया था तिरंगा

इकलौती संतान है

किसान पिता की इकलौती संतान मेघा के पिता उनकी इस उपलद्धि से बहुत खुश हैं। मेघा के ट्रेनर रत्नेश पांडे ने उन्हें फोन पर गुरुवार की रात इस बात की जानकारी दी थी।

प्रदेश के मुख्यकमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी बधाई

प्रदेश के मुख्यकमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मेघा की इस सफलता पर बधाई देते हुए कहा कि सीहोर ज़िले के छोटे से गांव की 24 वर्षीय बेटी मेघा परमार रुडवनदजम्अमतमेज के शिखर पर पहुंची। बेटी मेघा ऐसा करने वाली मध्य प्रदेश की पहली महिला है। मैं उसके दृढ़ संकल्प और समर्पण को प्रणाम करता हूं व भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।

आप भी नहीं जानते होंगे उन्हें, जिन्होंने बनाया हमारे भारत का तिरंगा

Sponsored






You may also like

No Related News