page level


Thursday, May 24th, 2018 03:57 AM
Flash

Modi ने विज्ञापनों पर जमकर बरसाया धन, राशि सुनकर उड़ जाएंगे आपके भी होश…




Modi ने विज्ञापनों पर जमकर बरसाया धन, राशि सुनकर उड़ जाएंगे आपके भी होश…



प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार प्रचार प्रसार को ज्यादा प्राथमिकता देती है, यही वजह है कि चाहे चुनाव हो या कोई और मौका मोदी सरकार प्रचार -प्रसार में किसी तरह की कमी नहीं छोड़ती। सोशल मडिया के साथ प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के जरिए सरकार हजारों लाखों नहीं बल्कि करोड़ों खर्च कर रही है। पिछले चार सालों में मोदी ने विज्ञापनों पर जमकर धन की बारिश की है।

हाल ही में आरटीआई के जरिए एक खुलासा हुआ है, जिसमें कहा गया है कि मोदी सरकार ने चार सालों में मात्र विज्ञापनों 4300 करोड़ रूपए खर्च किए हैं। मुंबई के आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली ने केंद्र सरकार के ब्यूरो ऑफ आउटरीच एंड कम्यूनिकेशन से वर्तमान सरकार के कार्यभार संभालने के वक्त से अब तक विज्ञापनों पर खर्च की गई राशि का ब्यौरा मांगा गया था।

आरटीआई में बताया गया है हालांकि ये खर्च पहले से कुछ काम हुआ है। सरकार की आलोचना के बाद विज्ञापनों के खर्चों में ये कमी आई है। बीओसी के वित्तीय सलाहकार तपन सूत्रधार द्वारा जून 2014 से अब तक हुए खर्च पर मुहैया कराई गई जानकारी में भारी भरकम खर्च का खुलासा हुआ है।

इतना हुआ खर्च-

जवाब के मुताबिक, जून 2014 से मार्च 2015 तक सरकार ने प्रिंट प्रचार पर 424.85 करोड़ रुपये, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर 448.97 करोड़ रुपये और आउटडोर प्रचार पर 79.72 करोड़ रुपये खर्च किए। कुल मिलाकर यह राशि 953.54 करोड़ रुपये होती है। अगले वित्त वर्ष 2015-2016 में सभी मीडिया पर वास्तविक खर्च में वृद्धि हुई। इसमें प्रिंट मीडिया पर 510.69 करोड़ रुपये, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर 541.99 करोड़ रुपये और आउटडोर प्रचार पर 118.43 करोड़ रुपये खर्च किए गए। कुल मिलाकर यह राशि 1,171.11 करोड़ रुपये होती है।

2016-17 में प्रिंट माध्यम पर खर्च में पहले वित्त वर्ष की तुलना में गिरावट दर्ज की गई। इस दौरान 463.38 करोड़ रुपये प्रिंट माध्यम से प्रचार और विज्ञापन पर खर्च हुए। हालांकि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर खर्च में वृद्धि देखी गई। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर 613.78 करोड़ रुपये विज्ञापन और प्रचार पर खर्च किए गए। जबकि आउटडोर मीडिया पर 185.99 करोड़ रुपये खर्च किए गए। कुल मिलाकर इस वर्ष के दौरान विज्ञापन और प्रचार पर 1,263.15 करोड़ रुपये खर्च किए गए।

प्रिंट मीडिया पर खर्च कर दिए 333 करोड़

2017 के मुकाबले इस साल इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर दिए गए विज्ञापनों में कुछ कमी देखी गई है। इस साल इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर 475.13 करोड़ रुपये और आउटडोर प्रचार पर 147.10 करोड़ रुपये खर्च किए गए। आरटीआई के जवाब में कहा गया है कि अप्रैल-दिसंबर 2017 (नौ महीने की अवधि) के दौरान सरकार ने अकेले प्रिंट माध्यम पर 333.23 करोड़ रुपये खर्च किए और पिछले वित्त वर्ष (अप्रैल 2017-मार्च 2018) में कुल 955.46 करोड़ रुपये खर्च किए गए।

Sponsored






You may also like

No Related News