page level


Friday, May 25th, 2018 12:34 AM
Flash

मकर संक्रांति शुभ दिन पर भूल कर भी नहीं करें ये 5 अशुभ काम




मकर संक्रांति शुभ दिन पर भूल कर भी नहीं करें ये 5 अशुभ कामSpiritual



मकर सक्रांति हिंदुओं का प्रमुख त्यौहार हैं। जिसे पूरे देश में मनाया जाता हैं। इसे भारत के साथ अन्य विदेशों में भी मनाया जाता है साथ ही बड़ी धूमधाम से। 14 जनवरी, को आ रहीं मकर संक्रांति इस बार दो बार मनाई जाएगी। जानकार बता रहे हैं कि 14 जनवरी की दोपहर 1ः47 बजे सूर्यदेव का प्रवेश मकर राशि मे होगा। इसके बाद में 15 जनवरी को सक्रांति सुबह 5ः11 बजे तक रहेगी। इस दिन की खास बात यह है कि इस दिन सूर्यदेव दक्षिणायन से उत्तरायण की ओर आते हैं और इसके बाद खरखास समाप्त होता है। जब तक खरखास चलता है तब तक कोई शुभ काम नहीं करते है। इसके खत्म होने के बाद तमाम मंगल काम शुरू किया जाता है।

संक्रांति दान को बड़ा महत्व मानते है

मकर संक्रांति के दिन दान करना सबसे बड़ा फल माना जाता है। इस दिन अगर दिन घी, तिल, कंबल, खिचड़ी दान का खास महत्व होता। ऐसा कहा जाता है आज के दिन किया गया दान सौ गुना होकर वापस फलीभूत होता है। इस दिन स्नान, दान, जप, तप, श्राद्ध तथा अनुष्ठान का बहुत महत्व होता है। लेकिन इस दिन अगर राशि के अनुसार दान किया जाता है तो उसका महत्व अलग होता है। साथ ही मकर राशि वालों भी अलग अलग फायदा होता है।

लेकिन संक्रांति पर कभी भी भूलकर ये गलतियां ना करें

– इस दिन दांत मांजने और बाल धोने से बचना चाहिए।

– किसी भी वृक्ष को नहीं काटें।

– किसी को भी कड़वे बोल बोलने से बचना चाहिए।

– शराब और मांस की बजाए इस दिन खिचड़ी या सात्विक भोजन करें।

यह भी पढ़ें

कहीं आपके शरीर में डांसिंग हूकवॉर्म तो नहीं, ये कीड़ा पी चुका 22 लीटर बच्चे का खून

इस दिलचस्प वजह के कारण मकर संक्रांति पर उड़ाई जाती हैं पतंगे

जानिए मकर संक्रांति पर क्यों खाते है तिल्ली के लड्डू और खिचड़ी

Sponsored