page level


Sunday, December 17th, 2017 04:11 AM
Flash




जापान की कंपनी ने ठोका भारत पर 5000 करोड़ का केस, पढ़िए क्या है मामला?




जापान की कंपनी ने ठोका भारत पर 5000 करोड़ का केस, पढ़िए क्या है मामला?Business

Sponsored




एक ओर मोदी सरकार ‘मेक इन इंडिया’ के तहत भारत में निवेश के लिए दुनिया भर की कम्पनियों को भारत में निवेश करने को कह रही है।वही दूसरी ओर जापानी ऑटोमेकर निर्माता निसान मोटर ने भारत के खिलाफ इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन में केस लगाने का फैसला लिया है। तो आइए जानतें है क्यों निसान मोटर ने भारत के खिलाफ केस लगाया है।

दरअसल कार बनाने वाली जापानी कंपनी निसान मोटर्स ने भारत के खिलाफ इंटरनेशनल आर्बिटरेशन में मामला दर्ज कराया है। इसके तहत कंपनी ने भारत पर आरोप लगाया है कि भारत उसके 770 मिलियन डॉलर से अधिक राशि का भुगतान नहीं कर रहा है। बता दें कि, निसान ने नोटिस में 2,900 करोड़ रुपए के अनपेड इन्सेंटिव और 2,100 करोड़ रुपए डेमेज, ब्याज आदि के रुप में मांगे हैं।

 

 

 

साल 2008 में निसान ने अपने ग्लोबल पार्टनर व फ्रांसीसी कार निर्माता रेनॉल्ट के साथ मिलकर चेन्नई में एक कार संयंत्र स्थापित के लिए निवेश की सहमति जताई थी, उस दौरान तमिलनाडु सरकार ने टैक्स रिफंड्स के साथ कई तरह की प्रोत्साहन राशि भी देने का वायदा किया था।

 

वही कंपनी द्वारा भेजे गए नोटिस में कहा गया है, कंपनी ने राज्‍य के अधिकारियों से 2015 में बकाया भुगतान के लिए कहा था। मगर अधिकारियों ने कोई जवाब नही दिया था। इसके बाद कंपनी के चेयरमैन कार्लोस घोस्‍न ने पिछले साल मोदी सरकार से मदद मांगी थी, लेकिन फिर भी कोई परिणाम सामने नही आए। इसके बाद कंपनी ने अगस्‍त में भारत सरकार को एक आर्बिटेटर नियु‍क्‍त करने की चेतावनी दी। पहली आर्बिटेशन सुनवाई दिसंबर के मध्‍य में होगी।

यह भी पढ़े: 

मुक्केबाजों के जीतकर आने पर हरियाणा सरकार देंगी ‘गाय’, ये फायदे गिनाएं

ऐसा बार्बर, जो मूछों की नहीं बल्कि आंखों की करता है शेव

#WorldAIDSDay: 8 सेलिब्रिटी जिनकी जान का दुश्मन बना था एड्स

इस देश की नागरिकता लेने में भारतीय दूसरे नंबर पर, 7.08 लाख आवेदन पेंडिंग

मिस वर्ल्ड मानुषी को फ्लाइट में सलाह देती दिखीं सुष्मिता सेन, वायरल हो रहा वीडियो

 

Sponsored






Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें