page level


Sunday, September 23rd, 2018 02:31 AM
Flash

बिजनेस स्कूलों में पढ़ाए जाएंगे नीरव मोदी और माल्या के किस्से, यै है वजह




बिजनेस स्कूलों में पढ़ाए जाएंगे नीरव मोदी और माल्या के किस्से, यै है वजहEducation & Career



देश के टॉप बिजनेस स्कूलों में अब बच्चों को मॉरल वैल्यूज का पाठ पढ़ाया जाएगा। भारत देश में रहते हुए बच्चे कैसे जिम्मेदार नागरिक बनें, इसके लिए छात्रों को नीरव मोदी और विजय माल्या के किस्से पढ़ाए जाएंगे ।

हाल ही में देश के बड़े बिजनेस स्कूल्स ने अपने सिलेबस में बदलाव किए हैं, जिसमें स्टूडेंट्स को कॉर्पोरेट गवर्नेंस, मॉरल वैल्यूज और सोशल रिसपॉन्सेबिलिटी से जुड़े टॉपिक्स को शामिल किया है। कोर्स में इन मुद्दों पर ग्लोबल एक्सपअ्र्स की राय भी रखी गई है। नैतिकता का पाठ पढ़ाने वाले बिजनेस स्कूलों में आईआईएम, एक्सएलआरआई, जमशेदपुर और एसपीजेआईएमआर जैसे स्कूल शामिल हैं।

आईआईएम बैंगलुरू की एमबीए प्रोग्राम की चेयरपर्सन पद्मिनी श्रीनिवासन कहती हैं कि इस तरह के सिलेबस से छात्रों को कॉलेज के बाहर कुछ स्किल्स सीखने को मिलेंगी। साथ ही नीरव मोदी और विजय माल्या जैसे लोगों का भी उदाहरण दिया जाएगा।

बता दें कि अभी तक आईआईएम बैंगलोर का कॉरपोरेट गवर्नेंस पर कोर्स विभिन्न नियमों और उनके पालन करने के तरीकों, कंपनसेशन स्ट्रक्चर और शेयरहोल्डर की संपत्ति बढ़ाने पर केंद्रित था। वहीं आज इस बात पर जोर दिया जा रहा है कि कंपनियां ज्यादा नैतिक और समावेशी तरीके से कैसे व्यवहार कर सकती हैं।

कोर्स  में अब कंपनी की गवर्नेंस, उसकी मार्केट में बने रहने की स्ट्रैटजी और सीएसआर जैसी चीजों को भी पढ़ाया जाएगा। पद्मिनी ने बताया, ‘इसके अलावा कोर्स में उन नैतिक दुविधाओं और टकरावों की स्थिति को भी शामिल किया गया है जिसका सामना मैनेजर को अपने करियर में करना पड़ता है। कोर्स में इन स्थितियों से निपटने और एक बेहतर निर्णय लेने के लिए जरूरी प्रक्रिया को बताया गया है।’

वहीं एक्सएलआरआई ने बिजनेस से जुड़े 30 से ज्यादा मामलों को अपने नैतिकता पाठ्यक्रम में शामिल किया है। इसमें नीरव मोदी के घोटाले के अलावा उबर स्कैंडल को भी शामिल किया है जिसकी वजह से उसके सीईओ को पद छोड़ना पड़ा था।

 यह भी पढ़ें

एसोचैम ने कहा, एमबीए के सिर्फ सात फीसदी छात्र ही नौकरी लायक

करोड़ों के सैलरी पैकेज मिलते है, इन टॉप 5 मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट से पढ़ाई के बाद

अब IIM से करिए GPME प्रोग्राम, ये है लास्ट डेट

Sponsored