page level


Friday, June 22nd, 2018 10:26 PM
Flash

भारत में बन रहा है “इकोफ्रेंडली टायर”, सड़कों पर छोड़ेगा ऑक्सीजन, जानिए और खूबियां




भारत में बन रहा है “इकोफ्रेंडली टायर”, सड़कों पर छोड़ेगा ऑक्सीजन, जानिए और खूबियांAuto & Technology



भारत में बढ़ते वाहनों से निकलने वाला धुंआ पर्यावरण को दूषित कर रहा है। इससे निजात पाने के समाधान खोजे जा रहे हैं, लेकिन फिलहाल अब तक कोई खास नतीजा नहीं निकला है। ऐसे में एक दुनिया की एक बड़ी टायर कंपनी ने अनोखी पहल की है। ये कंपनी एकऐसा टायर मार्केट में लांच करने जा रही है, जो सड़कों पर चलते वक्त वातावरण में कार्बन डाई ऑक्साइड छोडऩे के बजार ऑक्सीजन छोड़ेगा।

जी हां, है ना हैरान कर देने वाली बात। टृ-व्हीलर से लेकर ट्रक्स के लिए तैयार करने वाली अमेरिका की फेमस टायर कंपनी गुडइयर ने जेनेवा में हुए इंटरनेशनल मोटर शो में ये नया कॉन्सेप्ट वाला टायर पेश किया था।

ऑक्‍सीजन प्रोडक्‍शन कैसे करेगा ये टायर?

गुडइयर टायर टेक्‍नोलॉजी के मामले में काफी आगे मानी जाती है और वो लगातार भविष्‍य के मोटर वाहनों और यातायात व्‍यवस्‍था को आसान, सेफ और इनवॉयरमेंट फ्रेंडली बनाने के लिए कुछ न कुछ नया करती ही रहती है। इसी क्रम में कंपनी ने ऑक्‍सीजन उत्‍सर्जन करने वाले टायर बनाने की दिशा में अहम रिसर्च के बाद ये अनोखे टायर दुनिया के सामने पेश किए हैं।

बता दें कि इस टायर की बनावट ही काफी अलग है और इसकी साइडवॉल के भीतर जमीन पर पाए जाने वाले शैवाल टाइप के पौधे MOSS उगते रहते हैं। अपनी खास डिजायन के कारण ये टायर सड़कों पर चलने के दौरान वातावरण से कार्बन डाईऑक्‍साइड, पानी और नमी को सोखकर उन पौधों तक पहुंचाते रहते हैं, ताकि वो लगातार ग्रो कर सकें। इसका असर यह होगा कि इन पौधों से निकलने वाली ऑक्‍सीजन लगातार वातावरण में फैलती रहती है।

ये टायर्स फैलाएंगे 3000 टन ऑक्सीजन-

कंपनी की रिसर्च के मुताबिक, अगर पेरिस जैसे किसी बड़े शहर में चलने वाले करीब 25 लाख वाहनों में ऐसे टायर्स लगा दिए जाएं तो एक साल के भीतर ये टायर्स उस शहर में करीब 4000 टन कार्बन डाईऑक्‍साइड सोख लेंगे, यही नहीं इनके द्वारा करीब 3000 टन ऑक्‍सीजन वातावरण में फैलेगी, जो अपने आप ही प्रदूषण को कम करते हुए हमारे शहरों के वातावरण को सांस लेने के लिए बेहतर बनाएगी।

कभी नहीं होंगे पंचर-

इन टायर की खास बात तो ये है कि ये कभी पंचर नहीं होंगे। इस ऑक्सीजन टायर का स्ट्रक्चर टे्रडिश्रल टायर्स से पूरी तरह अलग है। जानकारी के अनुसार ये टायर पुराने टायर्स की रबड़ के इस्तेमाल से 3 डी प्रिंटर से बनाए गए हैं। वजन में काफी हल्के टायर पंचर फ्री हैं। इन टायर्स की खास बात ये भी हस् कि इसके साइडवॉल में आप चाहें तो कलर स्ट्रिप भी लगा सकते हैं, जिससे रात में ड्राइविंग के दौरान दूसरी दिशा से आने वाले वाहनों को अपनी गाड़ी को देखने में कोई परेशानी न हो।

यह भी पढ़ें

गाड़ियों के टायर के रंग काले ही क्यों होते हैं, रंग-बिरेंगे क्यों नहीं

पुराने आर्किटेक्चर पर ही नए सिरे से तैयार होगी करोड़ों की अयोध्या

ये है तैरता हुआ इकोफ्रेंडली वॉटर नेस्ट 100 घर

Sponsored