page level


Tuesday, August 14th, 2018 02:14 PM
Flash

कौन “हरि” बनेंगे राज्यसभा के उपसभापति, मतदान आज




कौन “हरि” बनेंगे राज्यसभा के उपसभापति, मतदान आजPolitics



देश के उच्च सदन में आज एक राजनीतिक जंग होने के लिए तैयार है। यहां राज्यसभा के उपसभापति के लिए आज चुनाव होगा । दोनों ही पार्टी ने अपने अपने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतार दिए हैं। एनडीए की तरफ से जेडीयू के राज्यसभा सांसद हरिबंश नारायण सिंह उम्मीदवार हैं, तो वहीं कांग्रेस ने सांसद बीके हरिप्रसाद को इस जंग के लिए उतारा है। कहने को तो बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही जीत का दावा कर रही हैं, फिर भी इस बार एनडीए का पलड़ा ज्यादा भारी लग पड़ रहा है, क्योंकि बीजेडी ने समर्थन का ऐलान कर दिया है।  बीजू जनता दल (बीजेडी) प्रमुख नवीन पटनायक ने घोषणा की है कि वो चुनाव के दौरान जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह को समर्थन देंगे। इसलिए हरिबंश का उपसभापति बनना लगभग तय माना जा रहा है।

बता दें कि  हरिबंश नारायण सिंह ठीक दो दिन पहले लोक लेखा समिति का चुनाव हार चुके हैं और इस बार मौजूदा परिस्थिति में उनका उपसभापति बनना करीब-करीब तय माना जा रहा है।

क्या है इसके पीछे गण्ति, क्यों रेस में आगे दिख रहे हैं हरिवंश

अब सवाल है कि ऐसी क्या गणित है जिससे जेडीयू सांसद हरिवंश इस रेस में आगे निकलते दिख रहे हैं? बीजेपी सूत्रों का कहना है कि उनके कैंडिडेट के पास राज्यसभा में संख्याबल है। आपको बता दें कि राज्यसभा में उपसभापति उम्मीदवार को जीतने के लिए 244 में से 123 सांसदों का समर्थन जरूरी है।

बता दें कि राज्यसभा में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी है जिसके पास 73 सांसद हैं। वहीं गठबंधन की बात करें तो सहयोगी जेडीयू के पास 6, शिवसेना के पास 3 और अकाली दल के पास 3 सांसद हैं। वहीं बीजेपी को एआईडीएमके के 13, बीजेडी के 9, टीआरएस के 6 सांसदों के समर्थन की भी उम्मीद है। सूत्रों के अनुसार शिवसेना भी एनडीए उम्मीदवार को ही समर्थन देगी। जबकि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए के 61 सांसद हैं। एसपी, बीएसपी, टीएमसी जैसी अन्य पार्टियों के समर्थन से यह आंकड़ा 118 ही पहुंच पाएगा। इस लिहाज से हरिबंश की जीत तय दिखती है। बता दें कि पीडीपी ने मतदान में हिस्सा न लेने का फैसला किया है।

अब बात यूपीए उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद की। हरिप्रसाद को कांग्रेस के 61 वोटों के अलावा तृणमूल कांग्रेस और एसपी के 13-13, टीडीपी के 6, सीपीएम के 5, बीएसपी और डीएमके के 4-4, सीपीआई के दो और जेडीएस के 1 सदस्य का समर्थन मिलने की उम्मीद है। इसे जोड़ने पर संख्या 109 होती है। अगर वाईएसआर कांग्रेस ने भी समर्थन कर दिया तो भी यह संख्या 111 तक ही पहुंचती नजर आ रही है।

ये तो सच है कि चमत्कार राजनीति में ही होता है। यहां कुछ ही पल में क्या बदल जाए, किसी को नहीं पता। ऐसे में हरिवंश की नजर आ रही जीत थोड़ी मुश्किल दिखाई दे रही है। जो भी होगा उसका फैसला 9 अगस्त को आ जाएगा। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि राजनीति 20-20 की तरह है। यहां कब पासा बदल जाए, पता नहीं। इसलिए अभी कोई भी अनुमान लगाना सही नहीं होगा। फैसले का इंतजार करना चाहिए।

यह भी पढ़ें

रिटायर हो रहे हैं राज्यसभा के 58 सांसद, जानिए किसकी रही कैसी परफॉर्मेंस

यूपी में दिखाया दम, राज्यसभा में अभी भी कम

अब 22 भाषाओं में अपनी बात कहेंगे सांसद, जोड़ी गई ये नई 5 भाषाएं भी

ज्यसभा चुनाव : 7 राज्यों की 26 सीट के लिए वोटिंग शुरू, बीजेपी पार कर सकती है ये आंकड़ा

Sponsored