page level


Wednesday, December 13th, 2017 07:34 PM
Flash




जानिए क्यों आते हैं नींद में झटके, क्या है इलाज़




Health & Food

hypnic-jerk

दिन भर का थका-हारा इंसान रात में सोकर आराम पाता है सोकर उसकी दिनभर की थकान उतर जाती है लेकिन कई बीमारियां ऐसी भी है जो आपकी नींद की दुश्मन होती है। जैसे आपके पास सोने वाले व्यक्ति का खर्राटे लेना आपको बिल्कुल भी पसंद नहीं होता। उसके खर्राटों से आपकी नींद खराब हो जाती है। कई बार लोग नींद में बड़बड़ाते भी है जिसकी वजह से पास वाले की नींद खराब हो जाती है। लेकिन ये सब तो वो कारण है जिनसे दूसरों की नींद खराब होती है। एक कारण ऐसा भी है जिससे आपकी नींद भी खराब हो जाती है। सोते समय कई बार हम झटके महसूस करते है। गहरी नींद में होते हुए एकदम से आपको झटका लगता है ऐसा लगता है कि आप कही गिर गए हो। ये समस्या अक्सर कई लोगों के साथ होती है लेकिन इसके बारें में किसी को ज्यादा जानकारी नहीं है। तो टेंशन लेने की कोई बात नहीं है यहां हम आपको इन्हीं झटकों के बारें में कुछ आवश्यक जानकारी देने जा रहे है। जिनसे आप इन झटकों के बारें में जागरूक हो पाएंगे।

इसलिए आते है झटके

जब आप रात को गहरी नींद में सो रहे होते है तो अचानक से आपको झटके आने लगते है। आमतौर पर ऐसा तब होता है जब रात में आप सपने देख रहे होते है। सपने में कुछ ऐसी गतिविधी भी होती है कि आपको वास्तविकता में झटके आते है। कभी-कभी आप जोर से भी चिल्लाने लगते है। इस अवस्था को ‘हाइपेनिक जर्क’ कहा जाता है। एक रिसर्च के अनुसार माना जाता है कि दुनिया में 70 प्रतिशत लोग इस स्थिति को महसूस करते है।

hypnic-jerk-3

क्या है हाइपेनिक जर्क

आपके सोने और जागने के बीच का समय हाइपोजेनिक स्टेज कहलाती है। इस अवस्था में आप समझ नहीं पाते है कि आप जाग रहे है या सो रहे हैं। ये दिमाग का एक रिएक्शन है, जिसमें कभी-कभी दिमाग की नसों में संकुचन हो जाता है और आप संभल भी नहीं पाते है। इस वजह से कभी-कभी आप बिस्तर से नीचे भी गिर जाते है तो कभी जोर-जोर से चिल्ला उठते है।

क्या है कारण

हाइपेनिक जर्क का मुख्य कारण आज के दौर में चिंता और अवसाद है। भागदौड़ भरे इस जमाने में हम दिमाग को आराम देने की बजाय देर रात तक काम करते रहते है, टीवी देखते रहते है। इस कारण दिमाग सही तरीके से आराम नहीं कर पाता। कभी-कभी ये जेनेटिक डिसऑर्डर भी हो सकता है । इसके अलावा दिमाग का वह हिस्सा जो बॉडी मूवमेंट के लिए उत्तरदायी होता है उसमें घाव होने पर भी इस तरह की समस्या आती है। इन घावों की वजह से भी नींद में दिक्कत आती है। अल्कोहल का अत्यधिक सेवन भी इसका कारण हो सकता है।

hypnagogic-jerk

बचने के उपाय

नींद हर व्यक्ति के लिए जरूरी होती है अगर हमारी नींद सहीं ढंग से पूरी न हो तो पूरा दिन ही बेकार जाता है। लेकिन हाइपेनिक जर्क का कोई इलाज़ नहीं है। हालांकि इससे बचने के लिए दिमाग की गतिविधियों को कम करके इसमें कमी लाई जा सकती हैं। इसके अलावा सोते समय एक्सरसाइज तथा कैफीन का कम सेवन करने से इसका बेहतर इलाज हो सकता है। इसके अलावा अल्कोहल का सेवन करने से बचे।

Sponsored






Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें