page level


Tuesday, September 18th, 2018 05:48 PM
Flash

ग्रामीण महिला को रोजगार देती इंदौर की बिजनेस वुमन नवनीता व्यास




ग्रामीण महिला को रोजगार देती इंदौर की बिजनेस वुमन नवनीता व्यासBusiness



इंदौर मध्यप्रदेश का दिल है और इसे व्यावसायिक राजधानी भी कहा जाता है। वैसे तो इंदौर में कई बिजनेस शुरू होते हैं और बंद हो जाते हैं लेकिन आज हम आपको इंदौर की एक ऐसी बिजनेसवुमन से मिलवाने जा रहे हैं जिन्होंने सिर्फ 10 हजार रूपए से अपने बिजनेस की शुरूआत की थी। आज वे लाखों का बिजनेस कर रही हैं। हम बात कर रहे हैं इंदौर की नवनीता व्यास की। जिन्होंने एक कमरे से शुरूआत की और आज इनका बिजनेस ग्राहकों का भरोसा बन चुका है। इन सभी के साथ उन्होंने महिलाओं को सशक्त करने के लिए एक आदर्श स्थापित किया है। तो चलिए आपको बताते हैं नवनीता व्यास की कहानी उन्हीं की जुबानी।

नवनीता जी ने यूथेन्स न्यूज को दिए इंटरव्यू में बताया कि महिलाओं के बारे में अक्सर सोचा जाता है कि वे घर की चार दीवारी में ही रहें, घर के काम करें लेकिन मेरा मानना है कि महिलाओं में रिस्क लेने की ताकत ज़्यादा होती है और घर के साथ वे बिजनेस को भी अच्छे से चला सकती हैं। आज से 8 साल पहले मैं भी हाउसवाईफ ही थी लेकिन फिर मैंने 10 हजार रूपए के साथ ‘गोविंदजी आउटलेट’ की शुरूआत की। उस समय हम महिलाओं के कपड़े आउटलेट में रखते थे। शुरूआत से ही हमारा उद्देश्य रहा कि हमें ग्राहकों का भरोसा जीतना है और उसे कायम रखना है। आज यही वजह है कि हम हमारे छोटे से आउटलेट को एक बड़े आउटलेट में बदल पाए। आज के समय में हम महिलाओं की साड़ियां, लड़कियों के लिए कुर्ते, पार्टी वेयर और भी कई तरह के कपड़े रखते हैं। फिलहाल हमने बच्चों के कपड़े रखना शुरू किए हैं। हम बच्चों के कपड़े स्पेशली इंडोनेशिया और मलेशिया से मंगवाते हैं।

परिवार का भी मिला सपोर्ट

नवनीता जी ने बताया कि जब उन्होंने गोविंदजी आउटलेट की शुरूआत की तब उन्हें उनके परिवार ने पूरा सपोर्ट किया था। इस बिजनेस को आगे बढ़ाने में उनके ससुरजी स्वर्गीय श्री रवि व्यास, सास श्रीमति प्रमा व्यास और पति दीपक व्यास का काफी योगदान रहा है। उन्होंने हर अच्छे बुरे पल में इस बिजनेस को आगे बढ़ाने में सपोर्ट किया।

आखिर क्यों गोविंदजी आउटलेट से जुड़ता है ग्राहक

शुरू से ही हमने ग्राहक के सेटिसफेक्शन पर ही ध्यान दिया साथ ही हम कपड़े की क्वालिटी पर भी ध्यान देते हैं। कस्टमर जब भी हमारे यहां आता है तो उसे पता होता है कि उसे यहां अच्छी क्वालिटी मिलेगी और कपड़ा भी अच्छा मिलेगा। कुल मिलाकर हम कस्टमर सेटिसफेक्शन को ध्यान में रखते हैं।

क्या आप बिजनेस के अलावा सामाजिक तौर पर भी काम कर रही हैं?

नवनीता जी ने बताया कि गोविंदजी आउटलेट के अलावा हमने एक ‘बाबूजी’ नाम से एक ब्रांड शुरू किया है जो सामाजिक तौर पर जुड़ा हुआ है। इस ब्रांड में हम होम क्लिनिंग प्रोडक्ट की पैकेजिंग करवाते हैं। साथ ही अचार-पापड़ जैसी चीज़ें ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं से बनवाते हैं। इस ब्रांड को लेकर हमारा मकसद है कि हम ग्रामीण महिलाओं को आर्थिक तौर पर सशक्त बना सकें। फिलहाल हमसे 5 से 10 महिलाएं जुड़ी हैं लेकिन हमारा लक्ष्य है कि हम कम से कम 100 से 150 महिलाओं को रोजगार दे।

नवनीता व्यास की कहानी हर महिला के लिए प्रेरणादायक है क्योंकि कम पैसों से किसी बिजनेस को स्टार्ट करना और फिर उसे इतने बड़े मुकाम तक ले जाने की हिम्मत हर किसी में नहीं होती। आप भी नवनीता जी की कहानी से प्रेरणा ले सकते हैं और घर की चार दीवारी से निकलकर अपनी एक अलग पहचान बना सकते हैं।

यह भी पढ़ें :

बढ़ गई इंकम टैक्स भरने की डेडलाइन, अब 31 अगस्त तक कर सकते हैं जमा

पर्यावरण को समर्पित हैं, शहर के पद्मश्री सम्मानित श्री भालू मोंढे जी

‘WOW’ women on wheels प्रोग्राम के जरिये ‘samaan society’ तैयार कर रही है महिला ड्राईवर-मैकेनिक

Sponsored