page level


Wednesday, September 19th, 2018 12:58 AM
Flash

ब्रिटेन में मेरी प्रॉपर्टी कोई छू नहीं सकता : विजय माल्या




ब्रिटेन में मेरी प्रॉपर्टी कोई छू नहीं सकता : विजय माल्याBusiness



भारत की बैंकों से करोड़ों रूपए कर्जा लेकर लंदन भागने वाले विजय माल्या ने हाल ही में एक विवादित बयान दिया है। विजय माल्या ने कहा कि ब्रिटेन में उनकी कोई प्रॉपर्टी नहीं है, जो भी प्रॉपर्टी है वो बच्चों और मां के नाम पर है। उनकी मां और बच्चों के नाम की प्रॉपर्टी कोई छू भी नहीं सकता।

माल्या के नाम पर है ये चीज़ें

विजय माल्या ने कहा कि ब्रिटेन में उनके नाम पर बस कुछ कारें, ज्वैलरी है। जिन्हें वह सौंपने के लिए तैयार हैं। आपको बता दें कि पिछले सप्ताह ही ब्रिटिश हाईकोर्ट ने आदेश दिया था कि ब्रिटिश अधिकारी लंदन स्थित माल्या की संपत्तियों की जांच और जब्ती कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : बिजनेस स्कूलों में पढ़ाए जाएंगे नीरव मोदी और माल्या के किस्से, यै है वजह

नेताओं पर साधा निशाना

माल्या ने कहा,’ भारत में चुनावी साल है. मुझे लगता है कि वे मुझे वापस लाकर सूली पर लटका देना चाहते हैं ताकि उन्हें ज्यादा वोट मिल सकें।’ ब्रिटिश हाईकोर्ट ने भारतीय बैंकों की अर्जी पर गुरुवार को अपना फैसला सुनाया जिसमें कहा गया कि 13 बैंकों के संगठन विजय माल्या से संबंधित संपत्तियों की जांच और नियंत्रण के लिए तलाशी ले सकते हैं।

माल्या के नाम पर नहीं है मकान

इससे भड़के विजय माल्या ने रविवार को समाचार एजेंसी रायटर्स से बात करते हुए कहा कि वह ब्रिटिश प्रवर्तन अधिकारियों का पूरा सहयोग करेंगे। लेकिन उनके नाम ब्रिटेन में कोई प्रॉपर्टी नहीं है. यहां तक कि उनका परिवार जिस आलीशान मकान में रह रहा है, वह भी उनके नाम नहीं है।

मेरी प्रॉपर्टी सौंपने को तैयार हूं

माल्या ने कहा, ’ब्रिटेन में मेरे नाम से जो भी प्रॉपर्टी है वह मैं सौंप दूंगा लेकिन यहां जो लग्जरी आवास है वह मेरे बच्चों के नाम है और लंदन का मकान मां के नाम है, जिन्हें कोई छू नहीं सकता।’ गौरतलब है कि भारत सरकार माल्या के लंदन से प्रत्यपर्ण के लिए पूरा जोर लगा रही है और इस बारे में लंदन की अदालत सितंबर तक कोई फैसला कर सकती है।

यह भी पढ़ें : 

दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल फैक्ट्री का उद्घाटन आज, जानिए खास बातें..

धरती का बैकुंठ हैं जगन्नाथ धाम, 14 जुलाई से शुरू होगी दस दिवसीय रथ यात्रा

बच्चों के चोरी होने का डर बेबुनियाद नहीं, चौंका देंगे 2016 के आंकड़े

Sponsored