page level


Friday, May 25th, 2018 01:05 AM
Flash

यरूशलम में अमेरिकी एम्बैसी का उद्घाटन होते ही भड़की हिंसा, 52 की मौत




यरूशलम में अमेरिकी एम्बैसी का उद्घाटन होते ही भड़की हिंसा, 52 की मौतWorld



इजराइल की राजधानी यरूशेलम में अमेरिकी दूतावास खुलने को लेकर भारी विरोध हुआ, जिसके चलते यहां इजरायली सैनिकों ने प्रदर्शनकारियों के खिलाफ बड़ी कार्रवाही को अंजाम दिया है। इसके खोले जाने के विरोध में गाजा सीमा पर हुई झड़प के दौरान इजरायल की तरफ से फायरिंग की गई, जिसमें 53 लोग मारे गए हैं। वहीं 1300 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर है।

रैली में शामिल रहे 35 हजार फिलिस्तीनी-

डेली मेल की खबर के अनुसार अमेरिकी दूतावास खोले जाने के विरोध में यहां करीब 35 हजार लोग रैली में शामिल हुए। इस दौरान इजरायली सुरक्षा बलों ने कार्रवाई करते हुए लोगों को गोली दाग दी। इजरायली स्नाइपरों की गोली से 14 साल के बच्चे समेत 37 लोग मारे गए। इस बीच एमनेस्टी इंटरनेशनल ने इजरायल की इस कार्रवाई को भीषण नरसंहार करार दिया है।

बता दें कि ये उद्घाटन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने किया था।  इवांका के साथ उनके पति और इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी मौजूद थे।

ट्रंप ने तोड़ी दशकों पुरानी नीति

2014 के गाजा युद्ध के बाद से यह इजराइल और फिलीस्तीन के बीच अब तक की सबसे हिंसक झड़प है। राष्ट्रपति बनने के बाद दिसंबर 2017 में डोनाल्ड ट्रंप ने तेल अवीव से अमेरिकी दूतावास को यरुशलम स्थानांतरित किए जाने का ऐलान किया था। ट्रंप ने अमेरिका की दशकों पुरानी नीति को तोड़ते हुए यरुशलम को इजराइल की आधिकारिक राजधानी की मान्यता देते हुए अमेरिकी दूतावास को स्थानांतरित किए जाने का ऐलान किया था। सोमवार को औपचारिक रूप से इस दूतावास को खोल दिया गया, जिसके विरोध में हिंसक प्रदर्शन भड़क उठा।

इजराइली सेना के मुताबिक विरोध प्रदर्शन में करीब 35,000 से अधिक लोग शामिल थे। सेना का आरोप है कि विरोध कर रहे लोगों में आतंकी भी शामिल थे, जिसने लोगों की आड़ लेकर हमला करना शुरू किया।

यह भी पढ़ें

नेतन्याहू तीसरे ऐसा नेता हैं जो पीएम मोदी के साथ करेंगे ये ख़ास काम

जराइल की महिला सैनिकों का खुलासा, दुश्मन का शिकार करने से ज्यादा हम होते हैं यौन शोषण के शिकार

ये 7 सिद्धांत बनाते हैं इजरायली सेना की दुनिया में एक अलग इमेज

Sponsored