page level


Thursday, December 14th, 2017 02:26 PM
Flash




एक गलती की वजह से 2 साल तक क्रिकेट नहीं खेल पाए थे हार्दिक पंड्या




एक गलती की वजह से 2 साल तक क्रिकेट नहीं खेल पाए थे हार्दिक पंड्याSports

Sponsored




पिछले टी20 वर्ल्ड कप के मौके पर भारत ने भले ही निराशाजनक प्रदर्शन किया हो लेकिन मैच के आखिर में एक खिलाड़ी ऐसा था जो सभी का दिल जीत ले गया था। ये खिलाड़ी कोई और नहीं बल्कि टीम इंडिया की शान हार्दिक पंड्या थे। जिस समय इंडिया की टीम का प्रदर्शन पूरी तरह गड़बड़ा गया था उस समय हार्दिक पंड्या ने ऐसे शॉट खेले कि विरोधी टीम भी घबरा गई।

हार्दिक पंड्या की लोकप्रियता के ग्राफ में जबर्दस्त उछाल आया है। टीम इंडिया के जोरदार ऑलराउंडर के तौर पर पहचान बना चुके हार्दिक पंड्या आज (11अक्टूबर) 24 साल के हो गए। 1993 में गुजरात के चोरयासी में पैदा हुए पंड्या ने 2016 में वनडे और टी-20 इंटरनेशनल में डेब्यू के बाद 2017 में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया।

आईपीएल से बनाई पहचान
पंड्या को पहली बार लोगों ने तब पहचाना, जब उन्होंने 2015 के आईपीएल में मुंबई इंडियंस की ओर से खेलते हुए 31 गेंदों में नाबाद 61 रनों की पारी खेली। आईपीएल में आने से कुछ साल पहले तक हार्दिक और उनके बड़े भाई क्रुणाल अपने पड़ोसी जिलों में लोकल टूर्नामेंट में खेलने जाया करते थे।

जूनियर लेवल पर करना पड़ा संघर्ष
पंड्या को जूनियर लेवल पर काफी जूझना पड़ा. इस दौरान उनका एटीट्यूड का गलत मतलब निकाला गया. एक वाकया तब की है, जब उनके सीनियर कोच और उनके बीच गलतफहमी पैदा हो गई। दरअसल, पंड्या के कोच ने उनसे भारत-ऑस्ट्रेलिया मैच में बॉल ब्वॉय के लिए फॉर्म भरने को कहा था, लेकिन पंड्या ने इसे तवज्जो नहीं दी।

पंड्या ने फार्म नहीं भरा फार्म
उन्होंने उसी दिन स्कूल में टेस्ट की बात कहकर फॉर्म भरने से मना कर दिया। हार्दिक वाले मुद्दे से अनजान बगैर पूछे क्रुणाल ने बॉल ब्वॉय वाला फॉर्म भर दिया। कोच ने इसे प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया। उन्हें लगा कि हार्दिक ने उनकी बात नहीं मानी. और पंड्या के इसी एटीट्यूड उन्हें मुश्किल में डाल दिया हालांकि पंड्या ने जानबूझकर कोच के आदेश को नजरअंदाज नहीं किया था।

दो साल तक नहीं मिला मौका
पंड्या के इस रवैये के कारण कोच नाराज हो गए और इस वजह से पंडया को दो साल तक अंडर-16 क्रिकेट से अलग रहना पड़ा। यहां तक कि अंडर-19 के आखिरी साल में भी वह ड्रॉप होने की कगार पर रहे। वो तो भला हो उनके असिस्टेंट कोच के अलावा तीन और सीनियर प्लेयर्स का, जिनकी वजह से चयनकर्ताओं ने पंड्या को टीम में बनाए रखा और इसके बाद पंड्या ने कई शानदार शतक जड़कर अपनी जगह पक्की कर ली।

 

Sponsored






Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें