Thursday, September 21st, 2017 13:58:09
Flash

साहित्य की दुनिया के सबसे बड़े जनक जिनके दीवाने आज भी हैं बहुत




Social

shakespeare

साहित्य जगत के सबसे बड़े जनक हैं विलियम शेक्सपीयर जिनकी कहानियां आज भी बहुत ज्यादा पसंद की जाती हैं। उनकी कहानियों पर नाटक और फिल्में आज भी बनाई जाती हैं। इस महान साहित्यकार की कहानियों का संग्रह आज ही के दिन 20 मई को प्रकाशित हुआ था। यही वो दिन था जब हमें उनकी रचनाओं को करीब से जानने का अवसर मिला था। हैमलेट, मैकबैथ, वैनिस का सौदागार जैसी कई रोचक कहानियों का संग्रह जिसे सॉनेट्स नाम दिया गया था, इस सॉनेट्स संग्रह को किसने किया था प्रकाशित जानिए-

1609, 20 मई को पहली बार सॉनेट्स को प्रकाशित किया था। जिसके शीर्षक पेज पर शेक-स्पीयरस सॉनेट्स लिखा हुआ था। इसके पहले कभी भी इनकी कहानियां कहीं भी नहीं छपी थी। बुक के मार्केट में आते ही हलचल मच गई। हर तरफ शेक्सपीयर को पढ़ा जाने लगा, उन्हें पसंद किया जाने लगा। शेक्सपीयर पहले से ज्यादा प्रचलित हो गए।

sonnets-tl

बहस का मुद्दा भी बनी किताब
सॉनेट्स को पढ़ने वालों में युवाओं की संख्या सबसे ज्यादा रही। आज भी युवा इसे पढ़ना पसंद करते हैं। ये युवाओं के लिए एक जुनून बन गई थी,  जिसे लेकर उस दौरान कई बार ये बहस का मुख्य मुद्दा भी बनी रही।

लोग अपने जीवन से जोड़ रहे थे कहानी को
बुक में प्यार, परंपरागत रुप, सुंदरता, अमर होने की बातें, शादी, परिवार, बच्चे जैसे कई बातें थीं जिनपर अक्सर सवाल उठते थे। इसके अलावा अकेलापन, मृत्यु और जीवन जैसी बातें भी युवाओं को भ्रमित कर रही थीं। लोग हर कहानी को अपने जीवन से जोड़ते हैं, वैसा ही हो रहा था इस बुक के मार्केट में आने के बाद से।

इन्होंने किया था बुक का प्रकाशन
सॉनेट्स का प्रकाशन थॉमस थॉर्प ने किया था जिसकी कापी स्टेशनर्स रजिस्टर में दर्ज कराई गई थी। सुरक्षा की दृष्टि से उस दौर में भी कापी को रजिस्टर किया जाता था। इसके बाद इस प्रकाशक ने शेक्सपीयर की कई और कहानियों को प्रकाशित किया। लोगों को इंतजार रहने लगा इन किताबों का।  भले ही कहानियां बहस का मुद्दा बनी पर उन्हें सबसे ज्यादा पसंद भी किया जाता था।

Sponsored



Follow Us

Yop Polls

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही जानकारी पर आपका क्या नज़रिया है?

Young Blogger

Dont miss

Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Subscribe

Categories