page level


Friday, June 22nd, 2018 10:23 PM
Flash

टीचर के बेटे थे विजय हजारे, लंबे संघर्ष के बाद हासिल किया था क्रिकेट में ये मुकाम




टीचर के बेटे थे विजय हजारे, लंबे संघर्ष के बाद हासिल किया था क्रिकेट में ये मुकामSports



देखा गया है कि, विजय हजारे ट्रॉफी को ‘रणजी वनडे ट्रॉफी’ के समान ही माना जाता है। वैसे यह ट्रॉफी भारतीय प्रसिद्ध क्रिकेटर विजय हजारे के नाम पर है। जी हाँ! 11 मार्च 1915 को सांगली में जन्म लेने वाले विजय हजारे महान क्रिकेटरों में से एक है। उनका पूरा नाम विजय सैमुअल हजारे है। विजय हजारे ने अपने करियर में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए है। उन्होंने अपने करियर में भारतीय टीम को कई सफलताएं भी दिलाई।

प्रोफेशनल करियर

विजय हजारे एक ऑल-राउंडर के रूप में टीम इंडिया को मिले थे। इसके बाद वह भारतीय टीम के कप्तान भी बने। इस दौरान उन्होंने अपनी टीम को टेस्ट क्रिकेट में प्रथम स्थान भी हासिल करवाया। इतना ही नही बल्कि वह पहले भारतीय क्रिकेटर थे जिन्होंने फर्स्ट क्लास क्रिकेट में ट्रिपल सेंचुरी बनाई थी। इसके साथ ही यहीं वे व्यक्ति थे जिन्होंने भारत की ओर से सबसे पहले 1000 रन पूरे किए थे।

उन्होंने अपने करियर में करीब 30 टेस्ट मैच खेले है जिसमें उन्होंने 2,192 रन और फर्स्ट क्लास क्रिकेट में करीब 238 मैच खेलते हुए 18,740 रन बनाए थे। वहीं बॉलिंग डिपार्टमेंट को संभालते हुए फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उन्होंने 595 विकेट लिए थे। इन सभी के बीच 1960 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म श्री अवार्ड से भी सम्मानित किया गया था। इसके साथ ही जब वे अपने क्रिकेट करियर से रिटायरमेंट ले रहे थे तब उनके नाम से एक टूर्नामेंट भी आयोजित होने लगा। इसका नाम ‘विजय हजारे ट्रॉफी’ रखा गया।

पर्सनल करियर

बताया जाता है कि, विजय हजारे के पिताजी एक टीचर थे और उनके 8 भाई-बहन थे। काफी लम्बे संघर्ष के बाद क्रिकेट की दुनिया में कदम रखने वाले विजय हजारे ने महाराष्ट्र, सेंट्रल इंडिया, बड़ोदा और होलकर जैसी टीमों से अपने करियर की शुरुआत की थी। भारतीय क्रिकेट का यह महान खिलाड़ी 18 दिसम्बर 2004 को हमारे बीच नही रहा। अपने 8 से 10 साल के क्रिकेट करियर में विजय हजारे ने कई रिकॉर्ड्स अपने नाम किए थे। यहीं कारण है कि, आज उन्हें हर व्यक्ति जानता है।

यह भी पढ़े:-

बदनामी के बाद क्रिकेटर शमी ने तोड़ी चुप्पी, पत्नी के खिलाफ बोली ये बात

सभी इंडियन क्रिकेटर्स हेलमेट पर लगाते हैं तिरंगा लेकिन धोनी क्यों नहीं करते ऐसा, जानें

टीम इंडिया के लिए रन मशीन बन सकता है ये क्रिकेटर, तोड़ चुका है कोहली का रिकॉर्ड

IDCA ने लड़कियों का बढ़ाया उत्साह, क्रिकेट प्रैक्टिस के लिए बनाएगा चार नए विकेट

Sponsored