page level


Thursday, January 18th, 2018 10:12 AM
Flash
15/01/2018

20 जनवरी से ‘पासबुक से लेकर फंड ट्रांसफर’ तक अब लगेंगे इतने चार्ज




20 जनवरी से ‘पासबुक से लेकर फंड ट्रांसफर’ तक अब लगेंगे इतने चार्जBusiness

Sponsored




20 जनवरी के बाद से आम जनता को अब बड़ा झटका लगने वाला है। अब तक ग्राहक जिन सेवाओं को लाभ निशुल्क उठाते थे अब उसके लिए उन्हें पैसे देना होंगे। यह नियम निजी और सरकारी दोनों बैंकों में समान रूप से लागू होगी। बैंक द्वारा दी जानी वाली तमाम मुफ्त की सेवाओं के लिए पर अब बैंक आपसे पैसा वसूलेंगी। कुछ सुविधाएं होगी जिन पर बैंक नहीं वसुलेंगी। लेकिन, अधिकतर पर चार्ज लिया जाएंगा। जारी है लिस्ट किस पर कितना पैसा लगेगा –

पासबुक अपडेशन – अपडेशन के लिए आपको 10 रूपए चार्ज देना होगा। बैलेंस स्टेटमेंट के लिए 25 रूपए चार्ज लगेगा। यह ऑटो डेबिट।

चेक बुक रिक्वेस्ट – इस पर आपको 25 रूपए लगेगा। ऑटो डेबिट हो जाएगा। सिग्नेचर वेरिफिकेशन में एक बार 50 रूपए चार्ज लगेगा।

डुप्लीकेट पासबुक – इसके 50 रूपए लगेंगे। डेबिट कार्ड रिक्वेस्ट के 25 रूपए लगेंगे।

फंड ट्रांसफर – एनईएफटी, आरटीजीएस आदि फंड ट्रांसफर पर 25 रूपए का चार्ज होगा। 2 लाख से ज्यादा अमाउंट होने पर 50 रूपए चार्ज होगा।

केश विदड्राअल – सेल्फ चेक के जरिए 50 हजार रूपए अधिकतम निकाले जा सकेंगे। इस पर 10 रूपए का चार्ज देना होगा। कोई तीसरा व्यक्ति 10,000 रूपए तक विदड्रॉल कर सकेगा। प्रति ट्रांजैक्शन 10 रूप्ए का चार्ज लगेगा।

कैश डिपॉजिट – कैश अकाउंट (सीए), कैश क्रेडिट (सीसी), ओवर ड्राफ्ट (ओडी) अकाउंट से 25 हजार रूपए तक का ट्रांजैक्शन प्रतिदिन फ्री होगा। इसके बाद 25 हजार से ज्यादा अमाउंट होने पर प्रति हजार 2.50 रूपए लगेगा। सीए, सीसी, ओडी और एसबी (सेविंग बैंक अकाउंट) अकाउंट से 2 लाख से अधिक रूपए जमा कर सकते है। एसबी अकाउंट से 50 हजार रूपए तक ट्रॉजैक्शन हर दिन फ्री है। 50 हजार से ज्यादा के अमाउंट पर प्रति हजार 2.50 रूपए देना पडेंगा।

डीडी इश्यू करवाने पर – डीडी/पीओ/ ईसीएस इश्यू करवाने पर 25 रूपए चार्ज लगेगा। चेक डिपॉजिट में 10 रूपए चार्ज प्रति चेक लगेगा|

इंटरेस्ट सर्टिफिकेट – इसके 50 रूपए लगेंगे। मोबाइल नंबर अपडेशन के 25 रूपए लगेंगे। केवाईसी अपडेशन के 25 रूपए लगेंगे।

दुसरी ब्रांच में ट्राजैक्शन पड़ेगा भारी

जहां आपके खाते की शाखा के सिवा आप कहीं और बैंक से अपना सेवा लेते है तो उसके लिए आपको शुल्क चुकाना होगा। साथ ही जीएसटी भी लगेगा। इसके लिए आपको अलग से पैसा नहीं देना होगा। बल्कि वह आपके बैंक अकाउंट से ही कट जाएंगे।

बैंकर्स ने सही बताया इस कदम को

सूत्रों के मुताबिक, नए शुल्कों को लेकर आंतरिक आदेश मिल चुके हैं। सभी बैंक आरबीआई के निर्देशों का पालन करते हैं। नियमों के मुताबिक संबंधित बैंक का बोर्ड सेवाओं पर लगने वाले चार्ज का फैसला लेता है। बोर्ड की मंजूरी के बाद ही अंतिम फैसला लिया जाता है। लेकिन अगर बैंक द्वारा यह फैसला तय हो जाता है तो खाताधारकों के लिए बड़ी मुश्किल हो जाएंगी। हालांकि बैंकर्स ने भी इस कदम को सही ठहराया है। उन्होंने कहा कि अगर वह अपनी अन्य ब्रांच से सेवा लेते है तो शुल्क लगना चाहिए।

ऑनलाइन बैंकिंग बढ़ेगा

बैंके के अधिकारी की तरफ से यह बात सामने आई है कि इस कदम से ऑनलाइन बैंकिंग को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही चेक और डीडी का उपयोग भी कम हो जाएगा। एटीएम और कियॉस्क मशीनों से पासबुक अपडेट और पैसों का ट्रांजैक्शन भी निशुल्क हो जाएंगा।

यह भी पढ़ें

इस देश में भैंसों को रंगने की होती है प्रतियोगिता

4 लाख रूपये कमाता है यह भिखारी , जानें इसकी Lifestyle

जन्मदिन विशेष – कॉन्ट्रोवर्सी क्वीन के नाम से लोकप्रिय है लेखिका शोभा डे

Sponsored






Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें


Select Categories