page level


Tuesday, September 18th, 2018 06:12 PM
Flash

हरमनप्रीत को इस गलती की मिलेगी बड़ी “सजा”, छिन सकता है DSP का पद भी




हरमनप्रीत को इस गलती की मिलेगी बड़ी “सजा”, छिन सकता है DSP का पद भीSports



भारतीय महिला किक्रेट टीम की काबिल खिलाड़ी हरमनप्रीत कौर की नौकरी अब दाव पर लग गई है। उनकी एक गलती के कारण उनकी नौकरी तक जाने की नौबत आ गई है। पंजाब पुलिस ने कप्तान हरमनप्रीत कौर की डिग्री को फर्जी करार दिया है। ऐसे में अब उनकी डीएसपी की नौकरी तो जाएगी ही साथ ही धोखाधड़ी का मामला भी दर्ज हो सकता है।

भारतीय महिला कप्तान हरमनप्रीत कौर ने अपने असाधारण प्रदर्शन से इंटरनेशनल लेवल पर अच्छा खासा मुकाम हासिल कर महिला खिलाडिय़ों के लिए एक मिसाल पेश की थी। इस बीच अब हरमनप्रीत को लेकर चौंका देने वाली खबर सामने आ रही है। जिसमें उन पर धोखाधड़ी का केस दर्ज हो सकता है साथ ही उनकी डीएसपी की नौकरी भी जा सकती है।

फर्जी डिग्री के आधार पर पाई DSP की नौकरी-

पंजाब पुलिस ने बताया है कि हरमनप्रीत कौर ने फर्जी डिग्री दिखाकर पुलिस में डीएसपी पद की नौकरी हासिल की है। पंजाब के मोगसा जिले में रहने हरमनप्रीत कौर ने पंजाब पुलिस में 1 मार्च को डीएसपी पद जॉइन किया था, पर पुलिस की जांच में उनके डॉक्यूमेंट्स फर्जी पाए गए हैं। जब यूनिवर्सिटी में उनके प्रमाणा-पत्रों की जांच की गई तो वहां उनसे संबंधित कोई डॉक्यूमेंट्स नहीं मिले। इस कारण पंजाब पुलिस ने सीएम कैप्टन अमरेंदर सिंह को प9 लिखा है कि ग्रेजुएशन की डिग्री फर्जी पाए जाने पर हरमनप्रीत की डीएसपी के रूप में नौकरी जारी नहीं रह सकती।

कार्रवाही करेगी सरकर-

डीजीपी एमके तिवारी ने बताया है कि हरमनप्रीत ने डीएसपी की नौकरी के लिए चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी, मेरठ की डिग्री दिखाई थी। पंजाब पुलिस सशस्त्र बल के कमांडेंट ने जब डिग्री वेरिफिकेशन के लिए मेरठ यूनिचर्सिटी भेजी तो यूनिवर्सिटी से बताया गया कि यह पंजीकरण नंबर मौजूद ही नहीं है। हरमनप्रीत की निय़ुक्ति पंजाब सरकार ने उनकी क्रिकेट उपलब्धियों के चलते डीएसपी पद पर की थी, इसलिए अब आगे की कार्रवाही भी सरकार करेगी।

हालांकि वह जब इस मामले को लेकर हरमनप्रीत से प्रतिक्रिया जाननी चाही तो उन्होंने कहा कि, ‘मैं नहीं जानती कि आपको यह सब किसने कहा। वैसे तो ऐसा कुछ नहीं है।’ हालांकि इस दौरान उन्होंने फर्जी डिग्री को लेकर कोई जवाब नहीं दिया। पुलिस विभाग ने पंजाब सरकार को लिखे पत्र में कहा कि हरमनप्रीत को उनकी क्रिकेट उपलब्धियों के कारण डी.एस.पी. रैंक मिला है, लेकिन उनकी शिक्षा योग्यता निर्धारित नियमों के अनुसार डी.एस.पी. पद के अनुरूप नहीं है। इसलिए, हरमनप्रीत को पद छोड़ना पड़ेगा। योग्य होने पर वह डी.एस.पी. रैंक का दावा कर सकती है ।

पहले भी सामने आया ऐसा मामला-

बता दें कि ये पहली बार नहीं जब किसी खिलाड़ी की फर्जी डिग्री का मामला सामने आया है। इससे पहले साल 2016 में राष्ट्र मंडल और एशिया खेलों की विजेता मनदीप कौर को भी डीएसपी के पद से हटाया गया था। मनदीप ने सिक्किम यूनिवर्सिटी की डिग्री पेश की थी। लेकिन राज्य की पुलिस सत्यापन में पाया गया कि वह कभी सिक्किम यूनिवर्सिटी की छात्रा रही ही नहीं। इस कारण उन्हें डीएसपी के पद से हटा दिया गया था।

जबकि इस संबंध में हरमनप्रीत के पिता का कहना है कि हरमन की डिग्री सही है। उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई मोगर में ही की है, इसके बाद उन्होंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई मेरठ यूनिवर्सिटी से की और रेलवे ने भी उन्हें इसी डिग्री के आधार पर नौकरी दी थी।

यह भी पढ़ें

DSP बनीं देश की ये महिला स्टार क्रिकेटर, 6 साल पहले सरकार ने कर दिया था रिजेक्ट

फोर्ब्स की अंडर 30 सूची में छा गए भारत के ये 4 होनहार खिलाड़ी

इस भारतीय महिला क्रिकेटर ने रचा नया कीर्तिमान

Sponsored