page level


Friday, May 25th, 2018 10:21 PM
Flash

4 साल में ढेरों सामाजिक कार्य कर चुका है ये NGO, फिर भी नही मिल पा रहा है प्रशासन का सहयोग




4 साल में ढेरों सामाजिक कार्य कर चुका है ये NGO, फिर भी नही मिल पा रहा है प्रशासन का सहयोग



आमतौर पर तो इंदौर अपने स्वच्छ वातावरण के लिए जाना जाता है। इन दिनों शहर में जोर-शोर से स्वछता अभियान भी चल रहा है,लेकिन यह कार्य अकेला इंदौर प्रशासन ही नही कर कर रहा है इसमें आम जनता के साथ-साथ सामाजिक सेवा संस्थानों का भी भी बड़ा हाथ है। वैसे तो इंदौर में बहुत सारी सामाजिक सेवा संस्थान है,लेकिन आज हम आपको जिस सामाजिक सेवा संस्थान के बारे में बताने जा रह है।

वह संस्थान पिछले चार साल में दर्जनों सामाजिक कार्य कर चुकी है। मगर अफ़सोस की बात है कि, वह संस्था आगे और बढ़े समाजिक कार्य करना चाहती है, लेकिन प्रशासन की मदद ना मिलने के कारण संस्था आज कुछ ख़ास कार्य आम जनता के लिए नही कर पा रही है।

जी है! दरअसल हम बात कर रह है मध्य प्रदेश सरकार दवारा साल 2013 में प्रमाणित सामाजिक सेवा संस्था सारसत्वा की। बता दें कि, इंदौर की यह संस्था ‘एक सोच बदलाव की…” नाम से एक कैंपेन चला रही है। जिसके अंतर्गत संस्था बहुत से सामाजिक कार्य करती है।

संस्था के संचालक चला चुके है फ्री कोचिंग क्लास

youthensnews से हुई बातचीत में संस्थान के संचालक चेतन यादव ने बताया कि, वे कुछ महीनो तक लगतार इंग्लिश स्पोकन की क्लास भी चला चुके है। मगर किसी करण  बस उन्हें यह बीच में बंद करनी पड़ी थी, लेकिन अब दुबारा जल्द ही वे इसे भी शुरू करने वाले है। संचालक चेतन आगें कहते है कि, लोगों को अब सामजिक कार्यों में भाग लेना चहिए एवं सामजिक सेवा करना चहिए।

नही मिल पा रहा है प्रशासन का सहयोग

सारसत्वा संस्था के संस्थापक चेतन ने बताया कि, जिस तरह से इंदौर प्रशासन का सहयोग मिलना चाहिए वैसा सहयोग ना मिलने की वजह से संस्था बड़े स्तर पर सामजिक कार्य नही कर पा रही हैं। उनका कहना है कि, हम यदि कोई सामजिक कार्य करना चाहते है तो प्रशासन की अनुमति नही मिल पाती है। इतना ही नहीं हमनें कई बारयातायात सिग्नलों पर ट्राफिक सेवा भी देना चाही मगर पुलिस प्रशासन की अनुमति ना मिलने की वजह से हम यह कार्य नही कर सके।

पिछली दिवाली पर कर चुके है गरीब बच्चों को मिठाईयों वितरण

पिछले साल संस्था ने एक सोच बदलाव की। मेजबानी में रीजनल पार्क के सामने झुग्गी झोपड़ियों में जाकर गरीब बच्चों को मिठाईयां, पटाखे, कपडें व खाघ सामग्री का वितरण किया था। इसके अलावा संस्था ने कई स्कूलों में कार्यक्रम कर स्कूल स्टूडेंट को पर्सनालिटी डेवलपमेंट और करियर गाइडेंस भी दिया है।

यह भी पढ़ें:

राक्षस बन भगवान शिव के आवास पर कब्जा करना चाहते है महाभारत के युधिष्ठिर

ऐली अवराम ने खोला हार्दिक पांड्या के साथ रिलेशन का राज

भूत भी मनाते हैं वैलेंटाइन डे, यकीन न हो तो खुद ही देख लो

अपने हॉट लुक से सोशल मीडिया पर तहलका मचा रही है मुंबई की ये लड़की, देखें फोटो

Sponsored






You may also like

No Related News