page level


Tuesday, August 14th, 2018 06:05 PM
Flash

46 सालों तक काला चश्मा पहने चलते थे “करूणानिधि”, सुनिए किस्सा काले चश्मे का…




46 सालों तक काला चश्मा पहने चलते थे “करूणानिधि”, सुनिए किस्सा काले चश्मे का…Politics



तमिलनाडु में छह दशक तक लोगों के दिलों पर राज करने वाले करूणानिधि के प्रति लोगों के दिल में अलग जगह थी। वे तमिलनाडु की जनता के प्रति काफी वफादार और संवेदनशील रहे। उनकी सरलता के साथ उनका काला चश्मा हमेशा लोगों को प्रभावित रहा। कहने को तो बस ये एक चश्मा था, लेकिन करूणानिधि के लिए ये उनकी जान था।

वे अगर कुछ भूल भी जाएं तो ठीक, लेकिन चश्मे को भुलाना उनके लिए नामुमकिन था। यही वजह है कि उनकी आखिरी सांस तक भी उनका काला चश्मा उनके साथ रहा। बता दें कि उनके चश्मे का फ्रेम कोई आम फ्रेम नहीं था, बल्कि एक दिलचस्प किस्सा उनके चश्मे को लेकर भी है।

40 दिनों तक देश में खोजा गया चश्मे का फ्रेम-

करूणानिधि ने 46 सालों तक काला चश्मा पहना। जिसे उन्होंने 2017 में अलविदा कह दिया था। इसके बाद जर्मनी के एक इंपोर्र्टेड चश्मे को जगह दी गई। एक मीडिया रिपोर्ट की मानें तो करूणानिधि का पुराना और भारी था। इसे पहनने में भी उन्हें काफी असुविधा होती थी। बावजूद इसके उन्हें अपना ये चश्मा बेहद पसंद था और वे इसे कभी बदलना नहीं चाहते थे। डॉक्टरों की सलाह के बाद ही उन्होंने अपना ये पुराना चश्मा बदलने की अनुमति दी।

जब करूणानिधि ने फ्रेम बदलने का फैसला किया तो चेन्नई के मशहूर विजय ऑप्टीकल्स को उनके चश्मे का फ्रेम ढूंढने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। उन्होंने 30 दिनों तक इस चश्मे का फ्रेम पूरे देश में ढूंढा। 40 दिन की लंबी खोज के बाद जर्मनी से नया चश्मा मंगाया गया। इस नए चश्मे का फ्रेम हल्का था और इसने ही करूणानिणि के 46 साल पुराने चश्मे की जगह ली। हालांकि इस नए चश्मे के साथ करूणानिधि का सफर लंबा नहीं कटा, लेकिन मुख्यमंत्री बनने से आखिरी समय तक उनका ये चश्मा सुर्खियां में रहा।

यह भी पढ़ें

करूणानिधि की समाधि मरीना बीच पर बनेगी या नहीं, कुछ देर में होगी सुनवाई

जिन्दगी की जंग लड़ रहे “करूणानिधि” के लिए 24 घंटे अहम, 14 की उम्र में छोड़ दिया था घर

“कलईनार” के 10 वो बड़े काम, जिसने बदल दी थी लोगों की जिन्दगी

Sponsored