page level


Wednesday, April 25th, 2018 10:00 PM
Flash

इनकम टैक्स अफसर की बहू रोहिणी कर रही लालू यादव को सपोर्ट




इनकम टैक्स अफसर की बहू रोहिणी कर रही लालू यादव को सपोर्टPolitics



लालू प्रसाद यादव और उनके बेटे तेजस्वी पर रेलवे होटल टेंडर का मामला कोर्ट में चल रहा है। समत्रों के मुताबिक इस मामले में दोनों बरी हो सकते। लेकिन आपको बता दें कि इस मामले में दोषी साबित होने से लेकर अब तक उनकी दूसरे नंबर की बेटी रोहिणी आचार्य उनका सपोर्ट कर रही है। रोहिणी ने शुक्रवार को फेसबुक पर रेलवे टेंडर केस से जुड़ी खबर पोस्ट करते हुए लिखा ‘सत्यमेव जयते।’ आपको बता दें कि लालू की कुल 5 बेटी है जिसमें से दूसरे नंबर की बेटी उन्हें अभी सबसे ज्यादा सपोर्ट कर रही है।वर्तमान में वह सिंगापुर में सेटल है और डॉक्टर है।

इनकम टैक्स ऑफिसर की बहू है रोहिणी

. रोहिणी आचार्य की शादी उनके एमबीबीएस कंप्लीट होने से पहले ही हो गई थी। उनके हसबैंड समरेश सिंह पेशे से सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और तब अमेरिका में जॉब कर रहे थे।
. समरेश सिंह के पिता राय रणविजय सिंह रिटायर्ड इनकम टैक्स ऑफिसर थे। वे लालू के कॉलेज फ्रेंड भी थे।
. रोहिणी तब जमशेदपुर के एमजीएम से एमबीबीएस कर रही थीं।

सिंगापुर में सेटल

रोहिणी वर्तमान में सिंगापुर में अपने हसबैंड समरेश सिंह के साथ रहती है। वो प्रेजेंट में एवरकोर पार्टनर्स नाम की कंपनी में मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। इससे पहले वे जीएमआर और स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक में इनवेस्टमेंट बैंकर की जॉब कर चुके हैं।

डिप्टी सीएम बनने की वाली थी

पिछले साल जुलाई में यह खबरें भी आई थी कि तेजस्वी की जगह रोहिणी आचार्य को डिप्टी सीएम बनावाएंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय लालू के बेटे तेजस्वी यादव के बेनामी संपत्ति में सामने आया था।

परिवार से इन लोगों के नाम भी शामिल

– बेनामी संपत्ति के मामले में लालू की बड़ी बेटी-दामाद मीसा और शैलेश कुमार के नाम भी शामिल थे। इसी वजह से रोहिणी का नाम डिप्टी सीएम की पोस्ट के लिए उठा था।
– बता दें कि चारा घोटाले में नाम आने के बाद जब लालू ने बिहार सीएम पद से इस्तीफा दिया थाए तब उन्होंने अपनी वाइफ राबड़ी देवी को इस पोस्ट पर बैठाया था।

यह भी पढ़ें

चारा घोटाला के तीसरे मामले में लालू-जगन्‍नाथ मिश्रा को पांच साल की सजा

ये हैं लालू की सात बेटियां, किसी का पति है पायलट तो किसी का इंजीनियर

राबड़ी देवी चाहती हैं ऐसी बहू, जो न “मॉल” जाए, न “सिनेमा हॉल”

Sponsored