page level


Tuesday, June 19th, 2018 11:44 PM
Flash

जम्मू कश्मीर के Major Gogoi हिरासत में, इस वजह से आए थे सुर्खियों में




जम्मू कश्मीर के Major Gogoi हिरासत में, इस वजह से आए थे सुर्खियों में



जम्मू कश्मीर में सुर्खियों में रहे मेजर नितिन लितुल गोगोई को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और फिर छोड़ दिया। उन पर गंभीर आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि ड्यूटी रीजॉइन करने से पहले वे एक लड़की के साथ रात बिताने वाले थे। जम्मू कश्मीर की पुलिस ने बताया कि होटल ग्रैंड ममता से कॉल आने के बाद उन्होंने आर्मी ऑफिसर, नाबालिग लड़की के साथ उनके ड्राइवर को भी गिरफ्तार कर लिया है।

इस मामले में अधिकारियों का कहना है कि वे एक सोर्स मीटिंग के लिए आए थे। अधिकारी के अनुसार ये घटना सुबह हुई जब मेजर गोगोई अपने ड्राइवर जो सेना का ही था उसके साथ यहां आए और एक महिला ने डलगेट के एक होटल में रहने आई। पुलिस ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि दो लोगों के लिये कमरे की बुकिंग लितुल गोगोई के नाम से ऑनलाइन कराई गई थी।

इन कारणों से 6 बार जम्मू कश्मीर में लागू हुआ राज्यपाल शासन

होटल के मालिक मंसूर अहमद ने बताया कि दो लोगों के लिये कमरे की बुकिंग लितुल गोगोई के नाम से ऑनलाइन कराई गई थी। अहमद ने बताया ‘गोगोई ने रजिस्ट्रेशन फॉर्म पर दो लोगों का नाम लिखा था। होटल मैनेजमेंट ने उनसे दो आधार कार्ड देने के लिए कहा, इसमें से एक लोकल कश्मीरी लड़की का था, जो कि नाबालिग थी। पुलिस का कहना है कि होटल के स्टाफ ने पूछताछ के दौरान बताया कि मेजर को कहा गया कि वो महिला के साथ होटल के कमरे में नहीं जा सकते हैं जिसके बाद स्टाफ और गोगोई के ड्राइवर के साथ झगड़ा शुरू हो गया। होटल के स्टाफ ने सेना के अधिकारी और उनके ड्राइवर को पकड़ लिया और पुलिस को बुलाया गया।

जानिए कौन हैं गोगोई-

जम्मू कश्मीर के नितिन लितुल गोगोई 2017 में सुर्खियों में आए थे। वे भारतीय सेना के अधिकारी हैं। 2017 में कश्मीर के उपचुनाव के दौरान पथराव से बचने के लिए जीप के बोनेट पर एक शख्स को बांधने से सुर्खियों में आए थे। बिना खून खराबे के एक विकट परिस्थिति को संभालने के लिए जहां उनकी तारीफ हुई वहीं मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अलगगाववादियों द्वारा उनकी आलोचना भी हुई। 22 मई 2017 को मेजर गोगोई को सेना प्रमुख के प्रशस्ति पत्र चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ कमेंडेशन कार्ड से सम्मानित किया गया था। मेजर गोगोई मेजर सर्विस कोर के ऑफिसर हैं। मेजर 53 नेशनल राइफल्स में तैनात हैं। गोगोई असम की अहोम समुदाय से ताल्लुक रखते हैं, जो सबसे ज्यादा निडर समुदाय माना जाता है।

यह भी पढ़ें

जम्मू कश्मीर के Article 35ए पर आज होगी सुनवाई, जानिए क्या है धारा 35ए

जम्मू कश्मीर में 1296 पदों पर वैकेंसी, जल्द करें आवेदन

जम्मू कश्मीर की नीति तय करने के लिए किया समूह का गठन

सुप्रीम कोर्ट का एतिहासिक फैसला, जम्मू कश्मीर के केस दूसरे राज्य में किये जा सकते हैं ट्रांसफर

Sponsored






You may also like

No Related News