page level


Sunday, December 17th, 2017 03:18 PM
Flash




17 की उम्र में पाक का लड़का बना साइंटिस्ट




17 की उम्र में पाक का लड़का बना साइंटिस्ट

Sponsored




महज 11 साल में 25 से अधिक ऑनलाइन कोर्स से पढ़ाई कर चुके पाकिस्तान के मोहम्मद शहीर नियाज़ी सिर्फ 17 साल की उम्र में वैज्ञानिक बन चुके है. शहीर बचपन से ही वैज्ञानिक प्रयोग के लिए टेलीस्कोप और अन्य उपकरण लेते थे. जिस उम्र में बच्चे मस्ती करते थे उस उम्र में शहीर अपने दादा के साथ विज्ञान की डॉक्यूमेंट्री देखा करता थे साथ ही मैथ और साइंस की किताबें पढ़ते थे और शायद यही वजह है कि मोहम्मद शहीर नियाज़ी महज 17 साल में वैज्ञानिक बन गये है.

बता दें कि इन्होने इलैक्ट्रिक हनीकॉम्ब पर शोध किया है. उनके इस शोधकार्य को रॉयल सोसाइटी ओपन साइंस जर्नल में प्रकाशित किया गया है. दरअसल पाकिस्तान के शहर लाहौर में रहने वाले हाईस्कूल के छात्र नियाज़ी ने हनीकॉम्ब बनने की प्रक्रिया को कैमरे में कैद करने में कामयाबी पाई है. इससे पहले किसी ने ऐसा नहीं किया था.

शहीर नियाज़ी पिछले साल चार छात्रों की टीम के साथ रूस में आयोजित अंतरराष्ट्रीय युवा फिजिक्स टूर्नामेंट में शामिल हुए थे जहां उन्हें इलैक्ट्रिक हनीकॉम्ब पर काम करने को दिया गया था. टूर्नामेंट में पहली बार नियाज़ी ने पाकिस्तान का प्रतिनिधित्व किया था.

इस टूर्नामेंट से वापिस आने के बाद लगातर एक साल शहीर नियाज़ी ने शोध पर मेहनत की उसके बाद इसे रॉयल सोसाइटी ओपन साइंस जर्नल में प्रकाशित किया गया है. शहीर को  17वें जन्मदिन के कुछ दिन पहले प्रकाशक की तरफ से स्वीकृति पत्र मिला था.

यह भी पढ़े: Video: सऊदी में फंसी महिला ने भगवंत मान से रोते-रोते लगाई मदद की गुहार

Sponsored






Loading…

You may also like

No Related News

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें