page level


Sunday, December 17th, 2017 04:13 AM
Flash




खुले में शौच करने से लोगों को रोकने के लिए अब ये अनोखा काम करेंगे टीचर्स




खुले में शौच करने से लोगों को रोकने के लिए अब ये अनोखा काम करेंगे टीचर्सSocial

Sponsored




देश में स्वच्छ भारत अभियान के चलते लोग जागरूक हो रहे हैं। सरकार भी खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए हर संभव कदम उठा रही है। इसके चलते राज्यों की सरकार कड़े नियम भी बना रही है। बावजूद इसके अब तक देश की आबादी अपनी हरकतों से बाज नहीं आती। ऐसे में लोगों को खुले में शौच करने से रोकने के लिए बिहार सरकार ने एक अनोखा कदम उठाया है।

बिहार प्रशासन ने स्कूल के टीसर्च के लिए एक फरमान जारी किया है, जिसमें खुले में शौच करने वाले लोगों पर लगाम लगाने के लिए फोटोग्राफी करने के निर्देश जारी किए हैं। लेकिन बिहार टीचर एसोसिएशन ने इस फरमान का यह कहकर विरोध किया है कि यह काम टीचर्स के लिए अपमानजनक है। दरअसल, बिहार के औरंगाबाद जिला प्रशासन ने देव बलॉक की पवई पंचायत को इसी साल 31 दिसंबर तक शौच मुक्त बनाने का लक्ष्य तय किया है। इसके लिए लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए 61 स्कूलों के 144 टीचर्स को अभियान में शामिल किया गया है। प्रशासन ने कहा है कि – जो लोग समझाने के बाद भी खुले में शौच करने से बाज नहीं आएंगे, उनकी फोटोग्राफी कराई जाएगी। बता दें कि सरकार का ये आइडिया फिल्म टॉयलेट से प्रेरित है।

लेकिन इस आइडिया से वहां के स्कूल टीचर्स राजी नहीं है। उनका कहना है कि ये काम टीचर्स की गरिमा के खिलाफ है साथ ही इसमें टीचर्स की सुरक्षा पर भी खतरा बना रहेगा। बीएमएसएस के महासचिव शत्रुघ्र प्रसाद सिंह ने पीएम नितिश कुमार को पत्र लिखकर कहा है कि टीचर सुबह शाम गांवों का दौरा कर लोगों को खुले में शौच करने से रोकने के अभियान में शामिल नहीं होंगे।

बता दें कि 18 नवंबर को कुडनी बीडीओ हरीमोहन कुमार ने एक फरमान जारी करते हुए कहा था कि सभी टीचर्स सुबह गांव में 6-7 और शाम को 5-6 बजे का दौरा करें और खुले में शौच करने वालों के फोटो भी खींचें। इस संबंध में टीचर्स का कहना है कि उन्हें खुले में शैच करने वालों के फोटो खींचने के लिए कहा गया है, लेकिन टीचर्स का कहना है कि महिला और लड़कियों के फोटो कैसे खींच सकते हैं।

यह भी पढ़ें

मोदीजी का गाँव में शौचालय की कमी से जूझ रहे है लोग

अब इस नए नाम से जाने जाएंगे भारत के “शौचालय”

राखी पर इस भाई ने अपनी बहन को उपहार में दिया “शौचालय”

पांच राज्यों में ही करीब 4.54 करोड़ शौचालय बनकर हुए तैयार

Sponsored






Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें