page level


Monday, September 24th, 2018 01:53 AM
Flash

भविष्य में कांग्रेस की बाघडोर संभालेगी राहुल गांधी की ये युवा सेना




भविष्य में कांग्रेस की बाघडोर संभालेगी राहुल गांधी की ये युवा सेनाPolitics



कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन में राहुल गांधी के किए वादे पूरे होंगे या नहीं ये तो दूर की बात है, लेकिन हां, जल्द ही कांग्रेस की कमान जल्द ही युवाशक्ति के हाथों में होगी। यानि राहुल की भविष्य की सेना तैयार हो चुकी है और जल्द ही ये युवाशक्ति पार्टी की बाघडोर अपने हाथ में लेने वाले हैं। अगर बीजेपी सरकार से थोड़ा दूर हटकर देखा जाए, तो भविष्य में राहुल की सेना पार्टी का नेतृत्व कर सकती है।

बता दें कि पहले से राहुल गांधी युवा शक्ति पर भरोसा करते आए हैं और वे जानते हैं कि देश को बदलने वाला भी एक युवा ही होता है। उन्हें युवा शक्ति पर पूरा भरोसा है और उन्हें अपनी इस सेना पर बहुत गर्व भी है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया-

ग्वालियर के महाराज माधवराव सिंधिया के बेटे ज्योतिरादित्य सिंधिया किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं। वे 1970 भारत सरकार की 15वीं लोकसभा में मंत्रिमंडल के वाणिज्य एंव उद्योग राज्यमंत्री हैं। सिंधिया लोकसभा की मध्यप्रदेश स्थित गुना से सांसद हैं। उनका संबंध भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस से है। युवा शक्ति में उनका चेहरा पार्टी की कमान संभालने के लिहाज से सामने आ रहा है।

सचिन पायलट-

लेफ्टीनेंट सचिन पायलट का जन्म 7 सितंबर 1977 में हुआ था। वे भारतीय राजनीतिज्ञ और भारत सरकार की 15वीं लोकसभा के मंत्रिमंडल में संचार एवं सूचना प्रोद्योगिकी मंत्री रहे हैं। राजस्थान के दौसा लोकसभा क्षेत्र का कांग्रेस की तरफ से प्रतिनिधित्व करते हैं।

जितिन प्रसाद-

सन् 2001 में भारतीय युवा कांग्रेस में सर्वप्रथम सचिव बनने वाले जितिन प्रसाद का नाम भी राहुल की इस सेना में शामिल है। सन् 2004 में उन्होंने अपने गृह लोकसभा सीट, शाहजहांपुर से 14वीं लोकसभा में किस्मत आजमायी और जीत भी हासिल की। जितिन प्रसाद को पहली बार 2008 में केंद्रीय राज्य इस्पात मंत्री के पद पर नियुक्त किया गया था।

मिलिंद देवड़ा-

4 दिसंबर 1975 को मुंबई में जन्मे मिलिंद देवड़ा का राजनीति से ताल्लुक बचपन से ही रहा है। वे राजनेता मुरली देवड़ा के बेटे हैं। 14वीं लोकसभा में वे सबसे युवा सदस्य थे। 2004 में उन्होंने बीजेपी के खिलाफ 10 हजार वोटों से चुनाव जीता था। अपने पिता की तरह ही वे भी कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व करते हैं।

रनदीप सुरजेवाला

हरियाणा के एमएलए रनदीप सुरजेवाला कांग्रेस की युवाशक्ति में शामिल हैं। वे राहुल गांधी के करीबी हैं और भरोसेमंद भी। फिलहाल वे पार्टी की कम्यूनिकेशन स्ट्रेटजी संभालते हैं, भविष्य में हो सकता है पार्टी की बाघडोर उनके हाथों में भी सौंपी जाए।

उम्मीद की जा रही है कि ये युवा चेहरे भविष्य में भाजपा का डटकर मुकाबले करेंगे। खुद राहुल गांधी चाहते हैं कि युवा शक्ति को धार देने के लिए ये नए चेहरे सोशल मीडिया पर ज्यादा से ज्यादा एक्टिव रहें। राजनीतिक पार्टी में सोशल मीडिया एक नया और शक्तिशाली हथियार बनकर उभरा है। यही वजह है कि युवा शक्ति द्वारा भाजपा को माप देने की ठानी गई है। अब ये तो वक्त ही बताएगा कि राहुल की ये सेना भाजपा पर कितनी भारी पड़ेगी।

यह भी पढ़ें

कांग्रेस का 84वां महाधिवेशन आज, इन मुद्दों पर 5 साल का रोडमैप होगा तैयार

कांग्रेस के पहले वामपंथ का सफाया

यहां लहराया कांग्रेस का परचम, BJP को मिली सिर्फ 10 सीट

अमित शाह ने की राहुल गांधी की मिमिक्री, कांग्रेस से मांगा चार पीढ़ी का हिसाब

Sponsored