page level


Sunday, February 18th, 2018 05:57 PM
Flash

भारत में रोज हो रहा है करोड़ों का नुकसान, सिर्फ एक नाम हिला रहा है भारत की इकोनॉमी




भारत में रोज हो रहा है करोड़ों का नुकसान, सिर्फ एक नाम हिला रहा है भारत की इकोनॉमीBusiness




बजट से एक दिन पहले और इसके बाद में जिस तरह से लगातार शेयर मार्केट में गिरावट दर्ज की गई है। उससे हर सेकेंड में भारत की अर्थव्यवस्था को कड़ा नुकसान हो रहा है। शेयर मार्केट में आई भारी गिरावट से करोड़ों रूपए की मार निवेशकों को झेलना पड़ी है। जिससे भारत की अर्थव्यवस्था पर असर पड़ रहा है। शेयर मार्केट में आई इस सुनामी के पीछे कई कारण है जिसमें से एक है डॉओ जोन्स। डॉओ जोन्स ने सिर्फ भारतीय नहीं बल्कि पुरी दुनिया के निवेशकों की जान पर बाजी लगा दी है।

क्या है डॉओ जोन्स

डॉओ जोन्स अमेरिकी स्टॉक मार्केट है। इसके अंतर्गत 30 बड़ी कंपनियां लिस्टेड है। यह बीएसई की तरह है जिसमें भी 30 कंपनियां लिस्टेड है। हाल ही में सोमवार को डॉव जोन्स 1175 अंकों की गिरावट हुई थी जिसके बाद में यह 24345 अंकों पर बंद हुआ था। इतनी बड़ी गिरावट 2011 के बाद में एक बार फिर से देखने को मिली है। क्योंकि भारतीय मार्केट कुछ हद तक अमेरिकी स्टॉक मार्केट से प्रभावित रहता है, इसलिए अमेरिकी स्टॉक मार्केट में आए इस भूकंप के झटके भारतीय स्टॉक मार्केट में भी महसूस हुए हैं।

डॉओ जोन्स में लिस्टेड 30 कंपनियां

भारतीय सेंसेक्स की तरह डॉओ जोन्स में भी 30 कंपनियां लिस्टेड हैं। यह है 30 कंपनी – नाइक, माइक्रोसॉफ्ट, एपल, बोइंग, 3एम, अमेरिकन एक्सप्रेस, कैटरपिलर, शेवरॉन, सीस्को, कोका-कोला, डिजनीएडॉवजू पॉन्ट, एक्सन मोबिल, जनरल इलेक्ट्रिक, गोल्डमैन, होम डिपो, आइबीएम, इंटेल, जॉनसन एंड जॉनसन, जेपी मॉर्गन चेज, मैकडॉन्लड, मर्क, पीफाइजर, प्रॉक्टर एंड गैंबल, ट्रैवलर कंपनीज, यूनाइटेड टेक्नोलॉजी, यूनाइटेड हेल्थ, वेरिजॉन, वीजा औऱ वॉलमार्ट।

यह भी पढ़ें

ATM कार्ड और E-वॉलेट छोड़िए, अंगूठी से करिए Payment

Online शॉपिंग के बाद अब इन 7 नए तरीकें से कर सकेंगे शॉपिंग

इस बाहुबली कॉन्स्टेबल ने विफल की देश की सबसे बड़ी डकैती

पाक की राजनीति में पहली हिंदू महिला ने दी दस्तक , स्वतंत्रता सेनानी के परिवार से है खास नाता

Sponsored